उदयपुरः अब तक जो बातें धीमी आवाज में परदे के पीछे होती थीं, अब खुल कर हो रही हैं. यह बदलाव इसलिए हो रहा है कि समाज खुल रहा है. महिला और महिलाओं से संबंधित मामले अब सार्वजनिक मंच की बहस का मुद्दा बन रहे हैं. महिलाएं भी संकोच छोड़कर सामने आ रही हैं और अपने बारे में, अपने शरीर के बारे में खुलकर बात कर रही हैं. इतना ही नहीं उससे जुड़ीं चिंता भी जाहिर कर रही हैं. समाज बदल रहा है, महिलाएं माइक थामकर अपने बेहद निजी अनुभवों को बांटने का हौसला दिखा रही हैं.

राजस्थान का उदयपुर कुछ ऐसे ही लीक से हटकर कार्यक्रम का गवाह बना, जहां एक ओपन माइक इवेंट में महिलाओं ने ‘पीरियड ब्रेकर’ के तहत मासिक धर्म से जुड़े मुद्दों पर अपनी राय रखी. इस आयोजन के सूत्रधार एमबीए के तीन युवा ग्रेजुएट थे जिन्होंने मोटे वेतन की जॉब्स छोड़कर वक्रांगी हाइजीन एंड हेल्थकेयर नाम से एक व्यवसाय शुरू किया और महिलाओं के लिए सेहतमंद फीनिक्स पैड्स बनाने शुरू किए.

यह भी पढ़ेंः ये फायदे जान लेंगे तो हर दिन खाएंगे तरबूज

प्रीमियम क्वालिटी के ये सेनेटरी नैपकिंस बेहद किफायती कीमत पर समाज के निचले तबके की महिलाओं के पास पहुंच रहे हैं. उदयपुर की बंजारा बस्ती में फीनिक्स पैड्स का फ्री वितरण रोबिनहुड आर्मी के सहयोग से किया गया. स्त्री रोग विशेषज्ञों की मौजूदगी में पीरियड के समय बरतने वाली सावधानियों के बारे में महिलाओं को आगाह किया गया.

महिलाओं तक सीधी सरल भाषा में सही संदेश पहुंचाने के लिए एक नुक्कड़ नाटक भी किया गया. इतना ही नहीं, जेआएन राजस्थान विद्यापीठ में फीनिक्स पैड्स ने महिला हाइजीन के बारे में एक लेक्चर का भी आयोजन किया.

‘पीरियड ब्रेकर’ के दौरान लाइव म्यूजिक, स्टैंडअप कॉमेडी और अन्य तरह के आयोजनों में महिलाओं ने अपने जीवन के सबसे निजी समझे जाने जाने वाले विषय पर खुलकर बात की और अपनी समस्याएं लोगों से साझा की.