नई दिल्ली. हिन्दी साहित्य के प्रख्यात व्यंग्यकार और सामाजिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक विसंगतियों को पैनी निगाह से देखने वाले कलमकार शरद जोशी की आज जयंती है. शुरुआत में गद्य लेखन से साहित्य की दुनिया में कदम रखने वाले इस साहित्यकार की रचनाओं में चुटीली टिप्पणियां बड़ी ‘मारक’ होती थीं. 21 मई 1931 को मध्यप्रदेश के उज्जैन में जन्मे शरद जोशी की अनेक रचनाएं व्यंग्य की विधा में धरोहर हैं. शासन तंत्र में फैले भ्रष्टाचार पर उनकी कलम बड़ी तेज थी. इसी कड़ी में उनकी एक रचना ‘लोकायुक्त’ है, जो तत्कालीन मध्यप्रदेश सरकार द्वारा भ्रष्टाचार निरोधक उपायों पर केंद्रित कर लिखी गई थी. शरद जोशी की जयंती पर आज पढ़िए उनकी यह प्रसिद्ध रचना. Also Read - 'इंडिया' शब्‍द हटाकर 'भारत' या 'हिंदुस्तान' करने की पिटीशन पर SC में 2 जून को सुनवाई

Also Read - भारत में जून-जुलाई में तबाही मचा सकता है कोरोना वायरस, अपने चरम पर होगा संक्रमण

सरकारी नेता अक्सर किसी ऐसे शब्द की तलाश में रहते हैं जो लोगों को छल सके, भरमा सके और वक्त को टाल देने में मददगार हो. आजकल मध्य प्रदेश में एक शब्द हवा में है – लोकायुक्त. पता नहीं यह नाम कहां से इनके हाथ लग गया कि पूरी गवर्नमेंट बार-बार इस नाम को लेकर अपनी सतत बढ़ती गंदगी ढंक रही है. इसमें पता नहीं, लोक कितना है और आयुक्त कितना है, पर मुख्यमंत्री काफी हैं. इस शब्द को विधानसभा के आकाश में उछालते हुए मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह ने कहा था कि लोकायुक्त यदि जरूरी हो, तो मुख्यमंत्री के विरुद्ध शिकायत की भी जांच कर सकता है. अपने लोकायुक्त पर पूरा भरोसा हुए बिना कोई मुख्यमंत्री ऐसा बयान नहीं देगा. तभी यह शुभहा हो गया कि लोकायुक्त कितना मुख्यमंत्री के पाकिट में है और कितना बाहर. जाहिर है, यह शब्द सत्ता के लिए परम उपयोगी है. वह इसके जरिए किसी भी घोटाले को एक साल के लिए आसानी से टाल सकते हैं. इसके सहारे अपने वालों को ईमानदार प्रमाणित करवा सकते हैं और अपने विरोधियों को नीचा दिखा सकते हैं. Also Read - BRICS समूह के विदेश मंत्रियों की मीटिंग, जयशंकर बोले- कोरोना से जंग में 85 देशों की मदद कर रहा है भारत

शरद जोशी जिन्होंने हिंदी व्यंग्य को दिलाई प्रतिष्ठा

विधानसभा के सदस्य जब मामला उठाएं, उनसे कहा जा सकता है कि मामले को लोकायुक्त को भेजा जाएगा. दूसरे सत्र में जब सवाल करें तब कहें – मामला लोकायुक्त को भेजा जा रहा है. तीसरे सत्र में उत्तर यह कि मामला लोकायुक्त को भेज दिया गया है. चौथे सत्र में उत्तर यह कि मामला लोकायुक्त के विचाराधीन है. पांचवें में यह कि अभी हमें लोकायुक्त से रिपोर्ट प्राप्त हो गई है, शासन उस पर विचार कर रहा है…. इस तरह हर उत्तेजना को समय में लपेटा जा सकता है. धीरे-धीरे बात ठंडी पड़ने लगती है. लोग संदर्भ भूलने लगते हैं. तब आसानी से कहा जा सकता है कि वह अफसर, जिस पर आरोप था, निर्दोष है. आज से 15-20 वर्ष पूर्व मध्य प्रदेश में ऐसे ही एक सतर्कता आयोग था. विजिलेंस कमीशन की स्थापना की गई थी. उसके भी बड़े हल्ले थे. तब कहा जाता था कि बस इस आयोग के बनते ही राज्य से भ्रष्टाचार इस तरह दुम दबाकर भागेगा कि लौटने का नाम ही नहीं लेगा. बड़ी ठोस तस्वीर पेश की गई शासन की. अब उस बात को कई बरस बीत गए. बदलते समय में लोगों को भ्रमित करने के लिए नया शब्द चाहिए ना. अब लोकायुक्त का डंका बजाया जा रहा है.

बहुत पहले मैंने एक चीनी कथा पढ़ी थी. गुफा में एक अजगर रहता था, जो रोज बाहर आकर चिड़ियों के अंडे, बच्चे और छोटे-मोटे प्राणियों को खा जाता. जंगल के सभी प्राणी अजगर से परेशान थे. एक दिन वे सब जमा होकर अजगर के पास आए और अपनी व्यथा सुनाई कि आपके कारण हमारा जीना मुहाल है. अजगर ने पूरी बात सुनी. विचार करने का पोज लिया और लंबी गर्भवती चुप्पी के बाद बोला – हो सकता है, मुझसे कभी गलती हो जाती है. जब भी मेरे विरुद्ध कोई शिकायत हो, आप गुफा में आ जाइए. मैं चौबीसों घंटे उपलब्ध हूं. यदि कोई बात हो तो मैं अवश्य विचार करूंगा. जाहिर है, किसी पशु की हिम्मत नहीं थी कि वह गुफा में जाता और अजगर का ग्रास बनता. तंत्र जब अपने चेहरों को छुपाने के लिए एक और चेहरा उत्पन्न करता है, उस पर वे सब कैसे आस्था रख सकते हैं, जो तंत्र के चरित्र और स्वभाव से परिचित हैं.

शरद जोशी : 50 साल पहले लिखा 100 साल बाद का व्यंग्य

शरद जोशी : 50 साल पहले लिखा 100 साल बाद का व्यंग्य

मान लीजिए, एक अफसर ने खरीद में घोटाला किया. कमीशन खाया, रिश्तेदारों, दोस्तों को टेंडर-मंजूरी में तरजीह दी, खराब माल खरीदा. रिंद के रिंद रहे, हाथ से जन्नत न गई. विधान सभा के सदस्य इस प्रकरण पर शोर मचाते हैं, सवाल पूछते हैं, बहस खड़ी करते हैं. आपका चक्कर जो भी हो, मुख्यमंत्री उस अफसर को बचाना चाहते हैं, तो इसके पूर्व कि विधानसभा की कोई कमेटी जांच करे, वे उछलकर घोषणा कर देंगे कि मामला लोकायुक्त को सौंपा जाएगा. चलिए करतल ध्वनि हो गई. अखबारों में छप गया. लगा कि सरकार बड़ी न्यायप्रिय है. अब दिलचस्प स्थिति यह होगी कि वह अफसर, जिसके विरुद्ध सारा मामला है, उसी कुर्सी पर बैठा है, जिस पर बैठ उसने घोटाला किया था. उसी को अपने खिलाफ मामला तैयार कर लोकायुक्त को भेजना है और यदि जांच हो तो अपनी सफाई भी पेश करनी है. वह मामला बनाता ही नहीं, क्योंकि स्वयं के विरुद्ध उसे कोई शिकायत ही नहीं है. वह कह देगा कि विधायकों के भाषणों में शिकायतें स्पष्ट नहीं हैं.

शासन ने बुद्धिजीवियों को इस शर्त पर रोटी दी कि मुंह में ले और चोंच बंद रखे…

लोकायुक्त एक सील है, प्रमाणपत्र देने का दफ्तर है. यहां से उन अपनेवालों को, जो भ्रष्टाचार कर चुके और आगे भी करने का इरादा रखते हैं, ईमानदारी के प्रमाणपत्र बांटे जाएंगे. लोकायुक्त एक खाली जगह है जो भ्रष्टाचार और उसकी आलोचना के बीच सदा बनी रहेगी. यह सरकार का शॉक एब्जॉर्बर है, जो कुर्सियों की रक्षा करेगा. एक कवच है, ढक्कन है, रैपर है, जो सरकारी खरीद, टेंडरी भ्रष्टाचार, निर्माण कार्यों में कमीशनबाजी, टेक्निकल हेराफेरी से ली गई रिश्वतें आदि लपेटने, छिपाने और सुरक्षित रखने के काम आएगा. यह विरोधियों के विरोध का मुंहतोड़ सरकारी जवाब है. एक स्थायी ठेंगा है, जो मंत्री जब चाहे तब किसी को दिखा सकता है. विजिलेंस कमीशन ने 15 साल भुलावे में रखा. अब 15 वर्ष लोकायुक्त काम आएगा. सरकारी बाग की एक कंटीली बाड़ है, जिसमें भ्रष्टाचार के पौधे सुरक्षित हैं.

जब विजिलेंस कमीशन उर्फ सतर्कता आयोग बना था तो एक व्यापारी से मैंने कहा था – जब सतर्कता आयोग बन गया है, अब क्या करोगे? वह लंबी सांस लेकर बोला – क्या करेंगे. टेंडर में पांच परसेंट उसका भी रखेंगे. लोकायुक्त के लिए भी वह शायद ऐसा ही कुछ कहेगा.

(इनपुट- भारतकोश/हिन्दीसमय)