नई दिल्ली: महाराष्ट्र के अकोला जिले के लोग अक्सर अपने जिले में साफ सफाई नहीं रखने और टूटे रोड की शिकायत करते रहते हैं. इसी बात को लेकर अकोला जिले के कलेक्टर आस्तिक कुमार पांडेय को कई बार लोगों से शिकायत भी मिली थी. Also Read - मुंबई में पति ने पत्‍नी को लोकल ट्रेन से दिया धक्‍का, नीचे गिरने पर हुई मौत, दो माह पहले की थी शादी

Also Read - प्‍लेबैक सिंगर के एक ट्वीट पर दिग्‍गज मंत्री का खुलासा, उसकी बहन से रिश्‍ते में रहा हूं, पैदा हुए बच्‍चों का 'प‍िता' भी हूं

इसी का जायजा लेने के लिए मंगलवार को वो अचानक पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट (PWD) के ऑफिस पहुंचे. पांडेय गए तो इसलिए थे कि अगर ऑफिस में कोई समस्या हो तो वो उसका निदान कर सकें ताकि इलाके के लोगों को परेशानी न हो लेकिन जब वो ऑफिस पहुंचे तो वहां का नजारा देखकर हैरान रह गए. Also Read - Corona Vaccination: इस राज्य में नाबालिगों और गर्भवती महिलाओं को नहीं मिलेगी कोविड वैक्सीन

जानिए जस्टिस रंजन गोगोई को, जो होंगे देश के अगले मुख्य न्यायाधीश

पांडेय जैसे ही पीडब्लयूडी की बिल्डिंग में घुसे वो ये देखकर हैरान रह गए कि जिस विभाग पर पूरे शहर को साफ रखने की जिम्मेदारी है वह खुद कितना गंदा है. विभाग में जगह जगह दीवार पर लोगों ने गुटखा खाकर थूक रखा था.

दीवारों और कोनों में गंदगी देखकर महाराष्ट्र के अकोला जिले के कलेक्टर से नहीं रहा गया और वह खुद सफाई के काम में जुट गए. उन्होंने अपने असिस्टेंट से एक बाल्टी पानी और एक कपड़ा मंगवाया और घुटनों के बल बैठकर खुद सफाई करने लग गए.

भारत ने 2017 में विदेशी यात्रियों का ‘स्वैग से किया स्वागत’, रिकॉर्ड बना, हुई बंपर कमाई

एक स्थानीय टीवी चैनल पर प्रसारित हो रहे फुटेज में पांडेय को दीवारों की गंदगी को साफ करते हुए देखा जा सकता है. इससे शर्मिंदा होकर कर्मचारियों ने उनसे कहा कि अब से वे खुद दीवारों को साफ करेंगे.

एक स्थानीय अधिकारी ने बताया कि कलेक्टर ने आश्वासन मिलने के बाद ही सफाई का काम छोड़ा. एक अधिकारी ने बताया कि पांडे ने अन्य विभागों का भी निरीक्षण किया. उन्होंने एक कोने में गोबर देखा तो एक झाड़ू लेकर खुद उसे साफ किया.

(इनपुट: एजेंसी)