बेंगलुरु. 100 मिलियन डॉलर के एक खगोलीय प्रोग्राम ‘ब्रेकथ्रू लिसन (Breakthrogh Listen)’ ने प्रृथ्वी से इतर ब्रह्मांड में इंटेलिजेंट लाइफ के बारे में जानकारी जुटाई है. Breakthrough Listen ने घोषणा की है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की वजह से वैज्ञानिकों को 72 नए फास्ट रेडियो बर्स्ट (FRBs) मिले हैं जो कि FRB-121102 से उत्पन्न होता है. इससे संकेत मिलते हैं कि पृथ्वी के अलावा भी कहीं जीवन है.

बता दें कि FRB-11102 के बारे में सबसे पहले पिछले साल जानकारी मिली थी. इसका श्रेय डॉ. विशाल गज्जर को जाता है. वह यूसी बार्कले में पोस्टडॉक्टर रिसर्चर हैं. वह मूल रूप से गुजरात के रहने वाले हैं. FRB दूर आकाशगंगा के रेडियो उत्सर्जन के ब्राइट पल्सेज की जानकारी देता है. इसके बारे में सबसे पहले ऑस्ट्रेलिया में पार्क्स टेलिस्कोप से जानकारी मिली थी. FRB को अब दुनिया के कई रेडियो टेलिस्कोप से देखने का दावा किया गया है.

ज्यादा विस्फोट देखने को मिले
ब्रेकथ्रू ने कहा है, ज्यादातर FRBs में सिर्फ एक सामान्य विस्फोट देखे गए हैं. जबकि FRB-1211002 में विस्फोट का दोहराव देखा गया है. Brerakthrough के इस प्रयास के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर पेट वॉर्डन का मानना है कि सारे ऑब्जर्वेशन इसी आविष्कार से नहीं मिले हैं. यह हमें पहले से मालूम था कि खगोल का यह सबसे ज्यादा ललचाने वाला रहस्य है.

5 घंटे ऑब्जर्वेशन हुआ
उन्होंने कहा, डॉ. गुज्जर के नेतृत्व में काम करने वाली टीम 5 घंटे के लंबे ऑब्जरवेशन के बाद पिछले साल FRB-121102 के बारे में खोज की थी. यह अब एक नई शक्तिशाली मशीन के रूप में सामने है जिसने एक अल्गॉरिदम डवलप किया है जो कि 2017 के डेटासेट को एनालाइज करता है. ब्रेकथ्रू ने कहा, यूसी बार्कले के पीएचडी स्टूडेंट गेरी जांग ने ये अल्गॉरिदम डेवलप किया है. टीम ने उसी टेकनिक का प्रयोग किया, जिससे इंटरनेट टेक्नॉलजी कंपनी सर्च रिजल्ट और इमेज ऑप्टिमाइज करने का काम करती है.

अल्गोरिदम डवलप किया
टीम ने कन्वोल्यूशनल न्यूरल नेटवर्क के नाम से एक अल्गोरिदम डवलप किया जो कि विस्फोट का पता लगाता है. गेरी ने सिर्फ वैज्ञानिकों को FRBs के डायनेमिक बिहेवियर को समझने में ही मदद नहीं की, बल्कि क्लासिकल अल्गॉरिदम से छूट रहे सिग्न को डिटेक्ट करने का वादा भी किया.