Global Day of Parents 2020: 1 जून को वैश्विक माता-पिता दिवस (Global Day of Parents) मनाया जाता है. इस दिन को 1 जून को मनाने की घोषणा संयुक्त राष्ट्र द्वारा 2012 में की गई थी. इस दिन को मनाने के पीछे खास मकसद है. इस दिन वैश्विक स्तर पर लोग अपने माता-पिता को उनके कामों को लिए धन्यवाद देते हैं. जिस तरह माता-पिता नि:स्वार्थ होकर बच्चे की सेवा करते हैं. इस कारण परिवार में एकता बनी रहे और बच्चे माता-पिता की अहमियत को समझ सकें इस कारण इस दिन को मनाया जाता है. संयुक्त राष्ट्र द्वारा वैश्विक माता-पिता दिवस को साल 2012 में मान्यता मिलने के बाद इसे हर साल 1 जून को मनाया जाने लगा. Also Read - International Day of Families 2020: यूं ही नहीं एक परिवार से बनता है देश, Wishes And Quotes में जानें परिवार की अहमियत

ग्लोबल डे ऑफ पैरेंट्स के दौरान आपको भी अपने माता-पिता को उनके नि:स्वार्थ प्रेम व उनकी कई सालों की मेहनत के लिए आज आपको धन्यवाद करना चाहिए. इसके लिए आप कई तरीकों का इस्तेमाल अपने तरीके से कर सकते हैं. आप चाहें तो उन्हें किसी शायरी या कुछ चुनिंदा लाइनों के माध्यम से बता सकते हैं कि उनकी अहमियत आपके जीवन में क्या है. Also Read - पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होंगे योगी आदित्यनाथ, सीएम ने बताई मुख्य वजह

ग्लोबल डे ऑफ पैरेट्स के दिन माता पिता को कुछ यूं करें विश- Also Read - योगी आदित्यनाथ के पिता का दिल्ली एम्स में निधन, गंभीर हालत में अस्पताल में कराए गए थे भर्ती

1- न जानें कौन सा जादू है माता-पिता की चरणों में, पैर छूने जितना नीचे झुकता हूं. असल जीवन में उतना ही उपर उठता हूं.

2- थकने के बावजूद कभी थककर सोते नहीं देखा, मैंने अपने पिता को कभी रोते नहीं देखा.

3- उपरवाले से पहले मैं अपने माता-पिता को जानता हूं, उन्ही के साथ होने से मैं खुद को मुकम्मल मानता हूं.

4- किताबें वो नहीं सिखाती जो मां सिखाती है, अनगढ़ मिट्टी से गढ़कर इंसान बनाती है.

5- इस दुनिया में नि:स्वार्थ प्यार सिर्फ माता पिता करते हैं, बाकी रिश्तें तो एक समझौते की तरह होते हैं.

6- मां-बाप ऐसे होते हैं जिनके होने का एहसास हमें कभी नहीं होता, लेकिन उनके न होने का एहसास बहुत होता है.

7- जेब खाली होने पर कभी मना करते नहीं देखा, मैंने अपने पिता से ज्यादा अमीर इंसान नहीं देखा

8- हमें छांव में रखा, खुद जलते रहे धूप में. हमने देखा है फरिश्ता अपने माता-पिता के रूप में.

9- भगवान मुझे इस काबिल बनाना कि जिस तरह मेरे माता पिता ने मुझे हमेशा खुश रखा, उनके बुढ़ापे में में उन्हें खुश रख सकूं.

10- जो लोग माता-पिता का हाथ पकड़कर रखते हैं, उन्हें कभी किसी के पांव पकड़ने की जरूरत नहीं होती.