नई दिल्ली: दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन गूगल आज अपना 20वां बर्थ-डे मना रहा है. महान हस्तियों के बर्थ-डे पर डूडल बनाने वाले गूगग ने अपने जन्मदिन के मौके पर डूडल बनाया है. गूगल ने 1.37 मिनट का वीडियो अपलोड किया है. डूडल वीडियो में गूगल के अबतक के इतिहास को दिखाया गया है. इन सालों में गूगल ने करोड़ों यूर्जस के मिलने वाले प्यार के लिए दुनिया की कई भाषाओं में उन्हें थैंक्यू कहा है. पिछले दो दशकों में सर्च इंजन गूगल ने एक लंबा सफर तय किया है. गूगल पूरी दुनिया के लिए नॉलेज का सबसे बड़ा सोर्स बन गया है. क्या खाएं, क्यां पीएं से लेकर क्या पहने, क्या पढ़ें, हर जानकारी हम गूगल से लेते हैं. गूगल हमारी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बन गया. इंटरनेट पर कुछ लोग इसे अपना दोस्त मानते हैं तो कुछ इसे अपना टीचर कहने से भी नहीं चूकते.

गूगल-डूडल वीडियो की शुरुआत वॉट इस गूगल यानी गूगल क्या है सर्च करने से होती है. इसके बाद कई भाषाओं में आता है कि सौर ग्रहण कब होता है? एक कपल टीवी देख रहा होता है, पीछे से सवाल आता है कि वॉट हैपेन ऑन Y2K यानी Y2K के दिन क्या हुआ था. इसी तरह गूगल-डूडल के वीडियो में अलग-अलग भाषाओं में अलग-अलग विषयों से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं. इसके बाद एक सवाल आता है नाचूं कैसे.

इसमें दो भारतीय कपल को डांस करते हुए दिखाया गया है. Is pluto still a planet यानी प्लूटो अभी भी ग्रह है? अन्य भाषाओं में भी कई सवाल पूछते हुए दिखाया गया है. गूगल ने ट्रांसलेशन, उच्चारण, GIF, सेल्फी, फोटो को भी डूडल वीडियो में एड किया है. वीडियो के अंत में गूगल ने दुनिया की कई भाषाओं में धन्यवाद किया है.

4 सितंबर 1998 को इंजीनियर लैरी पेज और सर्गे ब्रिन ने जानकारियों को एक जगह समेटने के लिए एक प्रोजेक्ट शुरू किया. इसी प्रोजेक्ट की मदद से इन्होंने आगे जाकर बुलंदियों को छुआ. आज गूगल के पास हर दिन लाखों सवाल आते हैं. आपको बता दें कि शुरू में Google को इसके निर्माताओं ने Back Rub का नाम दिया था. Google की शुरुआत एक सर्च इंजन के रूप में हुई. Google का नाम googol से लिया गया है जो कि एक बहुत बड़ी इकाई है. 1997 में लोगों के सामने Google.com के रूप में लाया गया. Google को एक कंपनी के रूप में सन 1997 में स्थापित किया गया.

इंटरनेट पर किए जाने वाले 90 प्रतिशत सर्च गूगल पर ही होते है, और क़रीब 60 प्रतिशत ऑनलाइन विज्ञापन भी यहीं से आता है. हर किसी को पर्सनल फ़ीलींग देने की कोशिश और लगातार कुछ नया करने की कोशिश ने गूगल को इस मुकाम पर पहुंचाने में मदद की है.