अभी तक के रुझानों में हरियाणा विधानसभा चुनाव में भाजपा और कांग्रेस के बीच जबरदस्त टक्कर देखने को मिल रही है. सत्तारूढ़ भाजपा 40 सीटों पर आगे चल रही है तो वहीं कांग्रेस 30 सीटों पर लीड कर रही है. दोनों दल बहुमत के लिए जरूरी 46 के आंकड़े से दूर दिख रहे हैं. ऐसे में  जननायक जनता पार्टी (JJP) के नेता दुष्यंत चौटाला किंगमेकर के रूप उभरते हुए दिख रहे हैं. अगर ये रुझान नतीजों में तब्दील होते हैं तो निश्चित तौर पर दुष्यंत किंगमेकर बन जाएंगे… क्योंकि उनके बिना संभवतः किसी की सरकार नहीं बनेगी. हरियाणा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी दावा किया है कि राज्य में कांग्रेस की सरकार बनेगी.

दुष्यंत चौटाला हरियाणा के युवा नेताओं में से एक हैं. युवाओं के बीच दुष्यंत चौटाला काफी लोकप्रिय है. इनमें अपने परदादा पूर्व उप प्रधानमंत्री एवं हरियाणा के भूतपूर्व मुख्यमंत्री रहे चौधरी देवीलाल का अक्स दिखता है. चौ़टाला वर्तमान में जननायक जनता पार्टी के संस्थापक और अध्यक्ष भी हैं. वे 16 वीं लोकसभा में हरियाणा के हिसार लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े थे और उन्होंने जीत दर्ज की थी. दुष्यंत चौटाला का जन्म 3 अप्रैल 1988 को अजय चौटाला और नैना सिंह चौटाला के यहां हरियाणा के हिसार जिले के दरोली में हुआ था. वह ओम प्रकाश चौटाला के पोते और पूर्व उप प्रधानमंत्री चौधरी देवी लाल के परपोते हैं. उनका एक छोटा भाई दिग्विजय चौटाला है.

फाइल फोटो

दुष्यंत चौटाला ने अपनी प्रारंभिक स्कूली शिक्षा सेंट मैरी स्कूल, हिसार और द लॉरेंस स्कूल, सनावर, हिमाचल प्रदेश से पूरी की. उन्होंने बी.एससी, (बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन) (मैनेजमेंट), कैलिफोर्निया स्टेट यूनिवर्सिटी, बेकर्सफील्ड, कैलिफोर्निया, यूएसए से पूरा किया. उन्होंने नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी से ‘मास्टर्स ऑफ़ लॉ’ किया है. उन्होंने 18 अप्रैल 2017 को मेघना चौटाला से शादी की. दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा जनहित कांग्रेस (बीएल) के कुलदीप बिश्नोई को 31,847 वोटों के अंतर से हराकर 2014 के लोकसभा चुनावों में वह सबसे कम उम्र के संसद सदस्य चुने गए, जिसके लिए उनका नाम ‘लिम्का’ बुक ऑफ रिकॉर्ड्स रिकॉर्ड में दर्ज हुआ.

दुष्यंत चौटाला ने 9 दिसंबर 2018 को इंडियन नेशनल लोकदल से निकाले जाने के बाद एक नई पार्टी जननायक जनता पार्टी (JJP) शुरू की. दुष्यंत चौटाला ने जब जींद में एक सभा को संबोधित कर रहे थे तो वहां 6 लाख से अधिक लोगों की भीड़ देखा गया, जो 1986 के बाद हरियाणा का सबसे बड़ा राजनीतिक कार्यक्रम के रूप में देखा जाने लगा. इतना बड़ा राजनीतिक कार्यक्रम दुष्यंत के परदादा और भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री, देवी लाल के सार्वजनिक संबोधन के दौरान देखा गया था. दुष्यंत चौटाला ने 9 दिसंबर 2018 को जींद में अपने समर्थकों के साथ मिलकर जननायक जनता पार्टी का गठन किया. दुष्यंत चौटाला जननायक जनता पार्टी से जींद का उपचुनाव लड़ा. अपने पहले चुनाव (जींद उपचुनाव) में जननायक जनता पार्टी (JJP) को 37631 वोट मिले और सभी विपक्षी दलों को पीछे छोड़ते हुए दूसरा स्थान हासिल किया. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने न केवल दुष्यंत चौटाला की प्रशंसा की, बल्कि जेजेपी का समर्थन भी किया. जेजेपी का गठन जननायक चौधरी देवी लाल के नाम पर किया गया था जो एक महान नेता और भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री थे. इस पार्टी का मुख्य मुद्दा शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार और कृषि है.

दुष्यंत चौटाला ने कब, कौन-कौन से पद संभाले-
शहरी विकास में स्थायी समिति के सदस्य- 1 सितंबर 2014 – 14 दिसंबर 2016
कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय में कंसल्टेटिव कमेटी के सदस्य रहे.
14 दिसंबर 2016 को वाणिज्य में स्थायी समिति के सदस्य रहे.
अध्यक्ष, टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ़ इंडिया
सदस्य, कार्यकारी परिषद, भारतीय ओलंपिक संघ
चौटाला पहले भारतीय हैं जिन्हें एरिज़ोना (यूएसए) की विधानसभा में उच्च नागरिक सम्मान से सम्मानित किया गया है.