Family Shayari in Hindi:  ज़िंदगी में कुछ चीज़ें ऐसी होती हैं जो हर हाल में बस आपकी होती हैं. आज पूरी दुनिया परिवार दिवस यानी International Day of Families 2020 मना रही है. इस दिन का महत्त्व हमारी आंखों के सामने हैं. इंसान की कामयाबी, नाकामयाबी, ख़ुशी और परेशानी जैसे अनगिनत पलों की गवाह देने वाला बस परिवार होता है. इस एक शब्द में समूचे ब्रह्मांड की सुरक्षा और विश्वास सांस लेती है. आज के नए दौर में लोगों के दिलों से ‘परिवार’ नाम की ये भावना खत्म होते जा रही है. लोग अकेले अपना जीवन बिताना चाहते  हैं मगर फिर भी ये दिन बस एक बहाना है जिससे हम अपने चाहने वालों, ‘परिवार’ को याद करें. आज हम लाए हैं आपके लिए ‘परिवार’ पर कुछ ख़ूबसूरत शायरी- Also Read - Eid 2020 Hindi Urdu Shayari : ईद आई तुम न आए क्या मज़ा है ईद का... पढ़िए और भेजिए ईद पर ये चुनिंदा शायरी

International Day of Families 2020- Family Shayari in Hindi  Also Read - International Day of Families 2020: यूं ही नहीं एक परिवार से बनता है देश, Wishes And Quotes में जानें परिवार की अहमियत

इस प्यारी सी दुनिया में एक छोटा सा मेरा परिवार है,
खुशियाँ मुझे इतनी मिलती है जैसे रोज कोई त्यौहार है.
-अज्ञात Also Read - Mother's Day 2020: माँ का कोई दिन नहीं होता साहेब, इनकी तो सदियां होती है... पढ़िए और भेजिए 'मदर्स डे' पर ये खास शायरी

जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
और जहाँ प्रेम की भाषा हो वहीं परिवार होता है.
-अज्ञात

एक अरसे से मुझको कहीं नजर नहीं आये,
बच्चे जबसे कमाने लगे कभी घर नहीं आये,
मेरी हालत देख कर सोचता है वो परिंदा भी
अच्छा हुआ कि मेरे बच्चों के पर नहीं आये.
– पंकज राज मिश्रा

बड़े अनमोल है ये खून के रिश्तें इनको तू बेकार ना कर,
मेरा हिस्सा भी तू ले ले मेरे भाई घर के आँगन में दीवार ना कर…
-अज्ञात

दुश्मनी लाख सही ख़त्म न कीजे रिश्ता
दिल मिले या न मिले हाथ मिलाते रहिए
– निदा फ़ाज़ली

दिल के रिश्ते अजीब रिश्ते हैं
साँस लेने से टूट जाते हैं
– मुस्तफ़ा ज़ैदी

फैमिली शायरी हिंदी में – परिवार पार शायरी 

नया इक रिश्ता पैदा क्यूँ करें हम
बिछड़ना है तो झगड़ा क्यूँ करें हम
– जौन एलिया

रिश्तों की दलदल से कैसे निकलेंगे
हर साज़िश के पीछे अपने निकलेंगे
– शकील जमाली

मिरे ख़ुदा मुझे इतना तो मो’तबर कर दे
मैं जिस मकान में रहता हूँ उस को घर कर दे
इफ़्तिख़ार आरिफ़

बहुतों से मैंने मुहब्बत की
और बहुतों ने मेरी दिल को तोड़ा,
अच्छे हो या बुरा हर हालात में
मेरे परिवार ने कभी मेरा साथ नहीं छोड़ा।
-अज्ञात

Best Family Shayari-I Love My Family Shayari in Hindi

सब कुछ तो है क्या ढूँडती रहती हैं निगाहें
क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यूँ नहीं जाता
निदा फ़ाज़ली

पता अब तक नहीं बदला हमारा
वही घर है वही क़िस्सा हमारा
अहमद मुश्ताक़

पहले हर चीज़ थी अपनी मगर अब लगता है
अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं
निदा फ़ाज़ली