नई दिल्ली: आज गूगल ने अपने डूडल में भारतीय सिंगर और डांसर गौहर जान को जगह दी है. 26 जून 1873 को जन्मीं गौहर जान की आज 145वीं सालगिरह है. गौहर का जन्म एक क्रिश्चियन परिवार में हुआ था और उनका पहले उनका नाम एंजलिना था. यूपी के आजमगढ़ में जन्मीं गौहर के दादा ब्रिटिश थे तो उनकी दादी हिंदू थीं. Also Read - New Year's Eve 2021 Google Doodle: नव वर्ष की पूर्व संध्या पर गूगल का खूबसूरत संदेश- घर में रहिए और....

एंजेलिना से बनीं गौहर जान
गौहर की मां विक्टोरिया जन्म से भारतीय थीं और एक प्रशिक्षित डांसर और सिंगर थीं. अपने पति से तलाक होने के बाद विक्टोरिया अपनी 8 साल की बच्ची एंजलिना को लेकर बनारस चली गई थीं जहां उन्होंने इस्लाम धर्म अपना लिया और नाम रखा…’खुर्शीद’. मां के साथ साथ गौहर का भी धर्म बदला गया और वो एंजेलिना से गौहर बन गईं. एंजेलिना से गौहर बनने वालीं इस कलाकार का अधिकतर काम कृषण भक्ति पर है. Also Read - Google Doodle: Google आज Doodle से मशहूर अर्थशास्त्री सर विलियम को दे रहा सम्मान, जानें इनके बारे में

शुरुआती सिंगर थीं गौहर
गौहर भारत में उन शुरुआती लोगों में से एक हैं जिन्होंने 78 आरपीएम पर म्यूजिक रिकॉर्ड किया था और जिसे बाद में ग्रामोफोन कंपनी ऑफ इंडिया ने रिलीज किया था. गौहर ने अपनी पहली परफॉर्मेंस 1887 में दरभंगा के रॉयल कोर्ट में दी थी. गौहर ने डांस और संगीत की शिक्षा बनारस से ली थी. Also Read - Sir W Arthur Lewis: विकासशील देशों की किस्मत बदलने वाले इस अर्थशास्त्री को गूगल ने ऐसे किया याद

माचिस पर छपती थी फोटो
गौहर ने कोलकाता में पहली परफॉर्मेंस 1896 में थी जिसके बाद उन्हें ‘पहली डांसिग गर्ल’ का टाइटल मिला था. गौहर अपने समय की बहुत फेमस आर्टिस्ट थीं, उनकी लोकप्रियता इतनी थी कि उस समय उनकी फोटो माचिस और पोस्ट कार्ड पर भी छपती थी.

भारत की पहली रिकॉर्डिंग
1902 में ग्रामोफोन कंपनी के भारत में पहले एजेंट फ्रेड्रिक विलियम ने गौहर को पहली भारतीय आर्टिस्ट के तौर पर चुना था जो म्यूजिक को रिकॉर्ड करे. 11 नवंबर 1902 को कोलकाता के होटल के एक कमरे को गौहर जान के लिए स्टूडियो में बदला गया था. ये भारत में पहली रिकॉर्डिंग थी. गौहर जान ने 1902 से 1920 के बीच 10 भाषाओं में 600 से ज्यादा गाने गाए थे. गौहर जान का 17 जनवरी 1930 को निधन हो गया था.