नई दिल्ली: जानेमाने पत्रकार कुलदीप नैयर ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए एक आलेख लिखा था, लेकिन अफसोस कि वह आलेख प्रकाशित होने से पहले ही नैयर का निधन हो गया. अब उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की जा रही है.

कुलदीप नैयर के बेटे राजीव नैयर ने कहा, ‘‘उनकी उम्र 90 साल से ज्यादा की हो चुकी थी, लेकिन अपने आखिरी दिन भी वह काम कर रहे थे. उनके निधन से हुए नुकसान की भरपाई नहीं हो सकती, लेकिन कम से कम उन्होंने शांतिपूर्वक अंतिम सांसें ली.’’

राजीव ने बताया, ‘‘वाजपेयी के निधन के बाद वह (कुलदीप नैयर) उन पर एक आलेख लिख रहे थे. उन्होंने आलेख पूरा लिख लिया था और इसे सभी सिंडीकेट वाले प्रकाशकों के पास भेजा जाना था. लेकिन अवश्यंभावी चीज हो गई. दुर्भाग्य है कि वह जिस आलेख को प्रकाशित कराने की योजना बना रहे थे, उसके प्रकाशित होने से पहले उनके लिए ही श्रद्धांजलियां लिखी जा रही हैं.’’

वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर का निधन, दिल्ली में ली अंतिम सांस

बता दें कि वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर का बुधवार-गुरुवार की रात निधन हो गया. वह 95 साल के थे. उन्होंने राजनीति से लेकर भारत-पाकिस्तान रिश्ते तक में कई चर्चित किताबें लिखी हैं. पिछले काफी समय से उनकी तबीयत ठीक नहीं चल रही थी. इसे देखते हुए उन्हें दिल्ली के ही एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने अंतिम सांसें ली. दिल्ली के लोधी घाट पर गुरुवार दोपहर 1 बजे उनका अंतिम संस्कार होगा.

अलविदा कुलदीप नैयर: लोकतांत्रिक अधिकारों के चैम्पियन को पक्ष-विपक्ष ने दी भावभीनी श्रद्धांजलि

14 अगस्त 1923 को जन्म कुलदीप नैयर ह्यूमन राइट एक्टिविस्ट और ब्रिटेन में हाई कमिश्नर के तौर पर काम कर चुके हैं. वह साल 1997 में राज्यसभा के लिए भी नॉमिनेट हुए थे.