नई दिल्ली. 17वीं लोकसभा का पहला सत्र सोमवार से शुरू हुआ. लगभग एक महीने तक चलने वाले लोकसभा सत्र के पहले दिन नवनिर्वाचित सांसदों ने संसद सदस्य के रूप में शपथ ली. लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर वीरेंद्र कुमार ने इन सांसदों को संसद के निचले सदन की सदस्यता की शपथ दिलाई. सांसदों के शपथ लेने की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की. उनके बाद राजनाथ सिंह, अमित शाह, नितिन गडकरी समेत पक्ष और विपक्ष के सांसदों ने शपथ ग्रहण किया. सांसदों के शपथ ग्रहण के समय लोकसभा में भारत की बहुभाषी संस्कृति की झलक साफ दिखाई दी, जब हिंदी और अंग्रेजी के अलावा कई संसद सदस्यों ने विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं में शपथ ग्रहण किया. पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने जहां हिंदी में शपथ पत्र पढ़ा, वहीं कई केंद्रीय मंत्री और सांसद संस्कृत या अन्य भाषाओं में शपथ लेते दिखाई दिए.

संसदीय लोकतंत्र में सक्रिय विपक्ष महत्वपूर्ण, संख्या को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं: पीएम मोदी

लोकसभा के पहले सत्र में शपथ ग्रहण के दौरान सबसे रोचक क्षण उस समय आया, जब केरल से कांग्रेस के सांसद के रूप में निर्वाचित होकर पहुंचे के. सुरेश ने अपनी मातृभाषा मलयालम या अंग्रेजी की जगह हिंदी भाषा में शपथ ली. उन्हें हिंदी में शपथ लेते देख कई हिंदीभाषी राज्यों के सांसद भी हैरत में रह गए. वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन ने संस्कृत में शपथ ग्रहण किया. इसके अलावा राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे और ‘ओडिशा के मोदी’ के रूप में मशहूर राज्यमंत्री प्रताप चंद्र सारंगी ने भी संस्कृत में ही शपथ ली. संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी और केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री सदानंद गौड़ा, दोनों ने अपनी कन्नड़ भाषा में शपथ ग्रहण किया.

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री और जम्मू-कश्मीर से आने वाले जितेंद्र सिंह ने अपनी मातृभाषा डोगरी में शपथ ली. वहीं, मंत्रिमंडल शपथ ग्रहण समारोह में अंग्रेजी में शपथ लेने वाली हरसिमरत कौर ने संसद की सदस्यत के तौर पर शपथ लेने के लिए पंजाबी भाषा का इस्तेमाल किया. वहीं पंजाब के होशियारपुर से भाजपा सांसद सोम प्रकाश ने भी पंजाबी भाषा में ही शपथ ग्रहण किया. केंद्रीय मंत्री रामेश्वर तेली और कृपानाथ मल्लाह तथा नबकुमार सारनाई ने असमी भाषा में सदस्यता ग्रहण की. शिवसेना के सांसद और केंद्रीय मंत्री अरविंद सावन ने मराठी भाषा में शपथ ली, जबकि केंद्रीय मंत्री श्रीपद यशो नायक ने कोंकणी भाषा में शपथ ग्रहण किया. इसके अलावा पश्चिम बंगाल के रायगंज की सांसद देबाश्री चौधरी और सिल्चर के सांसद राजदीप रॉय ने बांग्ला भाषा में शपथ ली.

आंध्र प्रदेश से लोकसभा के लिए चुने गए टी. रानागैया, वी. गीताविश्वनाथ, वाईएस अविनाश रेड्डी, बीसेट्टी वेंकट सत्यवती, अडाला प्रभाकर रेड्डी, बी. चंद्रशेखर, जी. माधवी, एमवीवी सत्यनारायण, मार्गनी भारत एन ने क्रमशः तेलुगू भाषा में शपथ ग्रहण किया. वहीं, आंध्र के कुछ अन्य सांसदों ने अंग्रेजी भाषा में शपथ ली.