नई दिल्ली: सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने ऑनलाइन गेम मोमो चैलेंज के खिलाफ सावधानी बरतने के लिए स्कूल को एडवाइजरी जारी की है. ब्लू व्हेल चैलेंज की तरह ही मोमो चैलेंज गेम खेलने वाले लोग अंत में आत्महत्या कर लेते हैं.ब्लू व्हेल चैलेंज ने पिछले साल कई लोगों की जान ले ली थी. मोमो चैलेंज भी अर्जेंटीना में अपना शिकार बना चुका है. हालांकि भारत में मोमो चैलेंज के मौत का कोई मामला सामने नहीं आया है. बोर्ड ने इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने मोमो चैलेंज गेम से अपने बच्चे को कैसे सुरक्षित रखें को लेकर अडवाइजरी जारी की है. मोमो चैलेंज गेम में लोगों को अनजान नंबरों से संवाद स्थापित करने के लिए चैलेंज किया जाता है. इस गेम में कई तरह के चैलेंज होते हैं जो हानिकारक होते हैं और अंत में आत्महत्या के लिए उकसाते हैं.

सीबीएसई ने 19 सितंबर को अपने लेटर में कहा है, मोमो चैलेंज वॉट्सऐप पर अज्ञात लोगों से संपर्क करने के लिए बच्चों, किशोरों और अन्य उपयोगकर्ताओं को प्रेरित करता है. संपर्क स्थापित करने के बाद डरावनी जापानी मोमो गुड़िया’ की छवि … संपर्क में दिखाई देती है. खेल नियंत्रक जो चुनौतियों की एक श्रृंखला करने के लिए खिलाड़ियों को लुभाता है, और गेम खेलने वाले लोगों को हिंसक छवियों, ऑडियो और वीडियो के साथ धमकी दी जाती है, अगर वे निर्देशों का पालन नहीं करते हैं.

साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ रक्षित टंडन का कहना है कि मोमो चैलेंज से जुड़े 4-5 मामले मिले हैं, लेकिन वे किसी भी गंभीर खतरे की बजाए अपने सहपाठियों को धमकाने वाले बच्चों में से थे. अपनी सलाह में मीटवाई (MeitY ) ने कहा है कि जब तक आपके बच्चे को पहले से ही ब्लू व्हेल गेम और मोमो गेम के बारे में पता न हो तो चर्चा न करें. ऐसा करके, आप इस अवसर को बढ़ाते हैं कि आपका बच्चा उस गेम की ऑनलाइन खोज करे. यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे इस गेम में शामिल नहीं हैं, अपने बच्चों की ऑनलाइन और सोशल मीडिया गतिविधियों पर नजर रखें.

क्या है मोमो चैलेंज
सबसे पहले यूजर को अज्ञात नंबर मिलता है, जिसे सेव कर Hi-Hello करने का चैलेंज दिया जाता है.
फिर उस अज्ञात नंबर पर बात करने का चैलेंज दिया जाता है.
Hi-Hello करते ही उस संदिग्ध नंबर से यूजर को डरावनी तस्वीरें और वीडियो क्लिप्स आने लगती हैं.
फिर यूजर को कुछ काम दिए जाते हैं, जिसे पूरा नहीं करने यूजर को धमकाया जाता है.
धमकी से डरकर यूजर खुदकुशी करने पर मजबूर हो जाता है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अर्जेंटीना में पिछले दिनों एक 12 साल की बच्ची ने आत्महत्या कर ली थी. खुदकुशी से पहले उसने एक वीडियो रिकॉर्ड किया था. पुलिस को शक है कि उसे ऐसा करने के लिए उकसाया गया. पुलिस का कहना है कि उस युवक की तलाश के लिए बच्ची के मोबाइल को हैक किया गया है और दोनों के बीच जो भी चैट हुई है, उसे निकाला जा रहा है. साल 2016 में ब्लू व्हेल गेम ने पूरी दुनिया में आतंक फैला दिया था. दुनिया भर में इस गेम के चक्कर में कई बच्चों ने मौत को गले लगा लिया था.