नई दिल्ली. इन दिनों जब बिहार के कई जिलों में चमकी बुखार के कारण 150 से ज्यादा बच्चों की मौत का मामला गर्माया हुआ है. उत्तर प्रदेश में भी बच्चों की मौत के बरक्स चिकित्सा व्यवस्था को लेकर सवाल उठते रहे हैं, ऐसे में भारत सरकार के नीति आयोग (Niti Aayog) ने देश की सेहत को लेकर रिपोर्ट जारी की है. नीति आयोग देश की सेहत जानने के लिए पिछले कुछ वर्षों से ऐसा सर्वेक्षण करा रहा है. इस साल के हेल्थ-इंडेक्स (Health Index) से जो जानकारी निकलकर आई है, उसमें कहा गया है कि देश का सबसे सेहतमंद राज्य केरल है, जबकि बिहार, ओडिशा और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में आखिरी स्थान पाने की ‘जंग’ छिड़ी हुई है. बिहार-यूपी और ओडिशा में स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं की बदहाल स्थिति की रिपोर्ट पिछले कुछ महीनों में आती रही हैं. अब नीति आयोग के हेल्थ-इंडेक्स ने इन राज्यों की कलई खोल दी है.Also Read - Alia Bhatt Skincare Routine: आलिया भट्ट ने शेयर किया अपनी खूबसूरत त्वचा का राज, आप भी करें ट्राई, Watch Video

Also Read - How to Maintain Weight After Weight Loss: कैसे करे बॉडी वैट को मेंटेन? जानिए सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट मनीषा चोपड़ा से | Watch Video

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक, नीति आयोग के हेल्थ-इंडेक्स में सबसे टॉप पर रहने वाले केरल के बाद दूसरे और तीसरे स्थान पर क्रमशः आंध्रप्रदेश और महाराष्ट्र का नाम है. वहीं, हरियाणा, राजस्थान और झारखंड जैसे राज्यों को उस श्रेणी में रखा गया है, जहां स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं की हालत में सुधार देखा गया है. नीति आयोग देश के विभिन्न राज्यों में स्वास्थ्य संबंधी 23 मानकों के आधार पर यह हेल्थ-इंडेक्स जारी करता है. वर्ष 2015-16 को आधार-वर्ष मानते हुए 2017-18 तक के आधार पर किए गए इस सर्वेक्षण के नतीजे निश्चित रूप से चौंकाने वाले हैं. क्योंकि ऐसे समय में जब स्वास्थ्य संबंधी योजनाओं को लागू कराने को लेकर केंद्र सरकार गंभीरता से काम करने का प्रयास कर रही है, बिहार, यूपी और ओडिशा जैसे राज्यों का प्रदर्शन निराश करने वाला है. खासकर उत्तर प्रदेश और बिहार, जो देश के बड़े राज्यों में शुमार किए जाते हैं, वहां पर चिकित्सा व्यवस्था की बदहाली चिंता में डाल देती है. Also Read - Best Leg Exercises to do at Home: क्या आप टोन्ड लेग्स चाहते हैं? डोलन आचार्य द्वारा बताये गए इन किलर लेग वर्कआउट को आजमाएं

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, नीति आयोग ने मंगलवार को 2019 का हेल्थ-इंडेक्स जारी किया है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और वर्ल्ड बैंक के तकनीकी सहयोग से जारी होने वाला यह हेल्थ-इंडेक्स तीन श्रेणियों में विभाजित होता है. नीति आयोग इस इंडेक्स को बड़े राज्य, छोटे प्रदेश और केंद्रशासित प्रदेश की तीन श्रेणियों में बांटकर जारी करता है. आयोग की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक बड़े राज्यों की श्रेणी में जहां केरल, आंध्र और महाराष्ट्र अव्वल हैं. वहीं बिहार, यूपी और ओडिशा का प्रदर्शन सबसे खराब रहा है. छोटे राज्यों के हेल्थ-इंडेक्स में मिजोरम ने बाजी मारी है. वहीं त्रिपुरा और मणिपुर क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं. लेकिन सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश को छोटे राज्यों की श्रेणी में सबसे कम अंक हासिल हुए हैं. इसके अलावा केंद्रशासित राज्यों में सेहत संबंधी मानकों का पालन करने में चंडीगढ़ ओवरऑल बेस्ट साबित हुआ है, जबकि दादरा एवं नगर हवेली को दूसरे स्थान पर रखा गया है.

सेहतमंद राज्य

केरल

आंध्र प्रदेश

महाराष्ट्र

सुधार की ओर

हरियाणा

राजस्थान

झारखंड

सबसे खराब

उत्तर प्रदेश

बिहार

ओडिशा