नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने आज कोरोना (Corona Virus) को लेकर राष्ट्र को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने अपील की कि पांच अप्रैल को रात के नौ बजे सभी घरों की बिजली बंद कर दें और दीया जलाएं. दीया न हो तो मोबाइल को टॉर्च ही जलाएं. पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने आज दीया जलाने की बात कही है. ये बात अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) अपनी कविता के माध्यम से काफी पहले ही कह चुके थे. अटल बिहारी वाजपेयी की कई कविताएँ बेहद मशहूर रही हैं, उन्हीं में से एक ‘आओ फिर से दीया जलाएँ’ भी है. Also Read - कर्नाटक में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 40 हजार पार, 73 और मरीजों की मौत

– आओ फिर से दीया जलाएँ Also Read - Eid Al-Adha 2020: इस बार कुछ अलग होगी बकरीद, मुस्लिम धर्मगुरुओं बोले- कुर्बानी भी...

आओ फिर से दीया जलाएँ
भरी दुपहरी में अँधियारा
सूरज परछाई से हारा
अंतरतम का नेह निचोड़ें-
बुझी हुई बाती सुलगाएँ
आओ फिर से दीया जलाएँ। Also Read - CBSE Class X, XII Result 2020: इस आधार पर छात्रों को दिए जाएंगे मार्क्स, जानें रिजल्ट से जुड़ी बड़ी बातें

हम पड़ाव को समझे मंज़िल
लक्ष्य हुआ आँखों से ओझल
वर्त्तमान के मोहजाल में-
आने वाला कल न भुलाएँ
आओ फिर से दीया जलाएँ।

आहुति बाकी यज्ञ अधूरा
अपनों के विघ्नों ने घेरा
अंतिम जय का वज़्र बनाने-
नव दधीचि हड्डियाँ गलाएँ
आओ फिर से दीया जलाएँ।

25 दिसंबर, 1924 को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में जन्मे भारत के पीएम रहे अटल बिहारी वाजपेयी का निधन 16 अगस्त 2018 को हुआ था. राजनीति में आने के साथ ही उन्होंने कविता लिखने का शौक कभी नहीं छोड़ा. बता दें कि पीएम मोदी लगातार कोरोना वायरस को लेकर राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं. उन्होएँ निराशा दूर करने के लिए लोगों से दीया जलाने की बात कही है. सोशल मीडिया पर लोग इस पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं. कोई इस अपील की तारीफ़ कर रहा है तो कोई आलोचना कर रहा है.