नई दिल्ली: भारतीय रेलवे के लिए 2018 उपलब्धियों भरा साल रहा. यह साल पहली स्वदेशी सेमी हाई स्पीड ट्रेन का निर्माण, पहली वातानुकूलित लोकल ट्रेन और सबसे लंबे पुल के उदघाटन के अलावा डीजल से चलने वाले एक इंजन को बिजली इंजन में बदलने के लिए याद किया जाएगा. सरकारी आंकलन के मुताबिक, 60 हजार किलोमीटर में फैली रेलवे पटरियों की 0.3 प्रतिशत पटरियां ही 160 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चलने वाली ट्रेनों के लिए दुरुस्त हैं. लिहाजा ऐसे नेटवर्क पर पूरी रफ्तार के साथ ट्रेन चल पाएंगी या नहीं, यह सिर्फ वक्त ही बता पाएगा.

1. तीन दशकों में रेल हादसों में बड़ी कमी आई
शायद रेलवे की सबसे बड़ी उपलब्धि इस साल बीते तीन दशकों के दौरान रेल हादसों में आई कमी है. इस साल अप्रैल से 15 दिसंबर 2018 के बीच 45 रेल हादसे हुए जिनकी तादाद बीते साल इस समयावधि में 54 थी. हालांकि ट्रेनों के समय में देरी, खाने की खराब गुणवत्ता और कैटररों द्वारा ज्यादा वसूली से यात्री पूरे साल परेशान रहे.
2. ट्रेन टी-18 बड़ी उपलब्धि, 180 किमी की स्पीड
इस साल हाईस्पीड ट्रेन टी-18 का रायबरेली की इंटिग्रल कोच फैक्ट्री में निर्माण किया जाना भी बड़ी उपलब्धि है. अधिकतम 180 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चलने वाली इस ट्रेन को बनाने में 97 करोड़ रुपए खर्च हुए. हालांकि, अभी तक इसे रेलवे के बेड़े में शामिल करने की तिथि तय नहीं है. टी-18 ट्रेन शताब्दी ट्रेनों की जगह लेगी और शुरुआत में दिल्ली से वाराणसी के बीच चलेगी.
3. हाईस्पीड ट्रेनों के परीक्षण के लिए अंडाकार ट्रैक बनाने वाला 5वां देश बनेगा भार
रेलवे एक और परियोजना के तहत सेमी हाईस्पीड और हाईस्पीड ट्रेनों के परीक्षण के लिए जयपुर और फुलेरा के बीच 40 किलोमीटर के अंडाकार रेलवे ट्रैक बनाने पर भी काम कर रहा है. इस परियोजना के पूरा होते ही भारत ऐसे ट्रैक बनाने वाला पांचवा देश बन जाएगा.

4. दो हजार हॉर्स पॉवर के इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव इंजन
रेलवे ने यह साल स्वच्छ ऊर्जा प्रदान करने के लिए 12 हजार हॉर्स पॉवर के इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव इंजन को अपने बेड़े में शामिल किया है

5. एशिया का दूसरा सबसे बड़ा पुल
एशिया का दूसरा सबसे लंबा बोगीबिल पुल 16 साल में बनकर तैयार हुआ है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्रिसमस के दिन इसका उद्घाटन किया. इस पुल के जरिये असम के तिनसुकिया और अरुणाचल के नाहर लागुन के बीच यात्रा के समय में करीब 10 घंटे की कमी आई है.रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि आधारभूत ढांचा पर खास जोर दिया जा रहा है. इस क्रम में देश का सबसे लंबा बोगीबिल पुल शुरू हो गया है. यह पुल असम तथा अरुणाचल प्रदेश को जोड़ने वाले रेल-सड़क पुल है.

6. मुंबई उपनगरीय रेलवे की पहली AC लोकल ट्रेनों की शुरुआत
रेलवे की इस साल की उपलब्धियों में गुजरात में पहले परिवहन विश्वविद्यालय की स्थापना, मुंबई उपनगरीय रेलवे की पहली वातानुकूलित लोकल ट्रेनों की शुरुआत भी शामिल है.
मंत्री का दावा: 2018 कई कामयाबियों से भरा एक साल
रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा, “पिछले साढ़े चार सालों में हमने परिवर्तनकारी सुधार लागू करने की दिशा में नया माहौल पैदा किया है. इस दौरान महत्वाकांक्षी लक्ष्य तय किए गए और सभी हदों को धकेलकर विकास की राह पर आगे बढ़े.” गोयल ने बताया कि इसका नतीजा यह हुआ कि यह साल भारतीय रेलवे के लिए कई कामयाबियों का साल रहा. अगर भारतीय रेलवे को इस साल उसकी कामयाबी के लिए कोई टैगलाइन दी जाए, तो वह शायद यह होगी – “2018, कई कामयाबियों से भरा एक साल”