The Accidental Prime Minister: आम लोगों को शायद ही पता होगा कि प्रधानमंत्री कार्यालय में कैसे काम होता है. लेकिन बाजार में संजय बारू की ‘The Accidental Prime Minister’ किताब आने के बाद लोगों को काफी हद तक इस बात का अंदाजा लग सका. अब इसी नाम से एक फिल्म भी आ रही है, जिसका ट्रेलर इसी सप्ताह जारी किया गया है.  ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ नाम की यह फिल्म संजय बारू की किताब पर ही आधारित है. फिल्म का ट्रेलर आने के बाद उसके कंटेंट को लेकर विवाद खड़ा हो गया है.

फिल्म का ट्रेलर आने के बाद आपके मन में भी यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि आखिर इस किताब में ऐसा क्या है, जिसे लेकर इतना विवाद हो रहा है और संजय बारू हैं कौन, जिन्होंने द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर लिखी है. तो चलिए आपको बताते हैं कि संजय बारू कौन हैं और उन्होंने इस किताब में किन तथ्यों को उजागर किया है.

The Accidental Prime Minister Trailer: मनमोहन सिंह बने अनुपम खेर पर लोगों ने शेयर किए फनी मीम्स

कौन हैं संजय बारू

संजय बारू भारत के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के मीडिया एडवाइजर थे. मई 2004 से अगस्त 2008 तक वह मीडिया एडवाइजर के तौर पर कार्यरत रहे. उन्होंने फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री(फिक्की) के चेयरमैन के तौर पर काम किया. उन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया और इकोनॉमिक टाइम्स के साथ भी काम किया है.

संजय बारू ने द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर को साल 2014 में किताब का रूप दिया. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार संजय बारू ने जब अपना पद संभाला था, तब मनमोहन सिंह ने उनसे कहा था कि मैं जानता हूं कि यहां बैठने के बाद मैं बाहरी दुनिया से कट जाऊंगा. मैं चाहता हूं कि तुम मेरी आंख और कान बनो. बिना किसी डर और मिलावट के तुम मुझे वह सब बताओ जो तुम्हेंं लगता है कि मुझे जानना चाहिए.

अपने कार्यकाल के चार साल के दौरान संजय बारू ने मनमोहन सिंह को जितना समझा यह किताब द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर उसी पर आधारित है.

इस किताब में यह पहली बार खुलासा किया गया कि मनमोहन सिंह के लिए ऐसे सरकार में काम करना कैसा था, जिसके दो पावर सेंटर्स थे.