World Hepatitis Day 2020: वायरल जनित बीमारी कोरोना संक्रमण के संकट के बीच दुनिया कल यानी 28 जुलाई को विश्व हेपाटायटिस डे मनाएगी. हेपाटायटिस भी एक वायरस संक्रमित बीमारी है, जिसके इलाज को लेकर आज भी दुनिया पुख्ता तौर पर कुछ नहीं कहती. हेपाटायटिस (Hepatitis) लीवर के संक्रमण से जुड़ी बीमारी है. लीवर में सूजन की वजह से hepatitis होता है. आज दुनिया में हेपाटायटिस (What is hepatitis) एक आम बीमारी हो चुका है. Also Read - World Hepatitis Day 2020: भूलकर भी ना करें ये गलतियां वरना खराब हो सकता है आपका लीवर

भारत में भी इस बीमारी से बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हैं. दुनिया में कुल हेपाटायटिस मरीजों में से आधे करीब 11 देशों में हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक आज की तारीख में दुनिया में करीब 40 करोड़ लोग इस वायरल जनित बीमारी से संक्रमित हैं. उचित इलाज के अभाव में इंसान का लीवर फेल हो सकता है या फिर वह कैंसर से पीड़ित हो सकता है. Also Read - World Hepatitis Day 2020: लीवर को रखना चाहते हैं फिट तो डाइट में शामिल करें ये खास चीजें

डॉक्टरों के मुताबिक लीवर का कार्य प्रोटीन, एंजाइम और अन्य चीजों का उत्पादन कर भोजन को पचाने में मदद करना है. इसके अलावे लीवर शरीर से जहरीले पदार्थों को निकालता और ऊर्जा उत्पन्न करता है. ऐसे में पाचन में दिक्कत या फिर कमजोरी महसूस होने (hepatitis symptoms) पर लीवर को टेस्ट कराकर हेपाटायटिस का पता लगाया जा सकता है. इसके लिए प्राथमिक तौर पर लीवर फंक्शन टेस्ट (एलएफटी) किया जाता है. इस टेस्ट से आपको शुरुआती स्तर पर लीवर के सुचारू रूप से काम करने के बारे में जानकारी मिल जाएगी. Also Read - World Hepatitis Day 2020 : एडल्ट एज में भी लगवा सकते हैं वैक्सीन, अब तक करोड़ों लोगों की बची है जान

वैसे में परेशानी होने का सीधा मतलब कतई हेपाटाइटिस नहीं है. हेपाटाइटिस का पता लगाने के लिए कई तरह के अन्य जांच कराने होते हैं.

डॉक्टरों का यह भी कहना है कि अगर एक बार हेपाटायटिस का वायरस इंसान के शरीर में पहुंच जाए तो उसे खत्म करना काफी मुश्किल काम है. इसके इलाज में मुख्य तौर शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने पर जोर दिया जाता है जिससे कि आपका शरीर हेपाटायटिस के वायरस से प्रभावी तरीके से निपट सके.

विस्तार से जाएं तो हेपाटइटिस भी कई तरह की होती है. इसमें हेपाटाइटिस ए (what is hepatitis A), हेपाटाइटिस बी (what is hepatitis B), हेपाटाइटिस सी (what is hepatitis C), हेपाटायटिस डी (what is hepatitis D), हेपाटाइटिस ई (what is hepatitis E) शामिल हैं. यानी यह बीमारी कई रुपों में पाई जाती है लेकिन हेपाटाइटिस बी को सबसे घातक माना जाता है.

वैसे अब इस बीमारी का वैक्सीन (hepatitis vaccine) उपलब्ध है. कोई भी व्यक्ति किसी भी उम्र में इसका वैक्सीन ले सकता है. वैक्सील लगवा लेने के बाद इस बीमारी के होने के चांस नगण्य रहता है.