नई दिल्ली. एडिलेड में पुजारा जब खेल रहे होंगे तो सारे के सारे ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज अपने कप्तान टिम पेन से यही सवाल कर रहे होंगे.. ये भारतीय दीवार ढहती क्यों नहीं है… और, इस पर पेन का जवाब उन्हें मिलता होगा… टूटेगी कैसे… द्रविड़ वाला ही दम जो है. हम ऐसा क्यों कह रहे हैं अब उसे जरा पुजारा और द्रविड़ के बीच टेस्ट क्रिकेट में बने इन 3 बड़े संयोगों से समझिए. Also Read - India vs England 4th Test, Day 2 Highlights: दूसरे दिन का खेल खत्म- Rishabh Pant का शतक, इंग्लैंड से 89 रन आगे भारत

Also Read - India vs England: आलोचना झेल रहे अजिंक्य रहाणे-चेतेश्वर पुजारा के समर्थन में उतरे कप्तान कोहली

5000 रन, 108 इनिंग Also Read - IND vs ENG: Amit Shah की दिली तमन्ना, पिंक बॉल टेस्ट में दोहरा शतक जड़ें Cheteshwar Pujara

शुरुआत एडिलेड टेस्ट में बने सबसे ताजा और तीसरे संयोग से ही करते हैं. एडिलेड टेस्ट की पहली पारी में पुजारा ने 123 रन की शानदार पारी खेली और इस दौरान टेस्ट क्रिकेट में अपने 5000 टेस्ट रन भी पूरे किए. पुजारा ने ये उपलब्धि अपने टेस्ट करियर की 108वीं इनिंग में पूरी की. द्रविड़ ने भी टेस्ट क्रिकेट में अपने 5000 रन 108वीं इनिंग में ही पूरे किए थे.

4000 रन, 84 इनिंग

ये तो हुई पुजारा और द्रविड़ के 5000 टेस्ट रन की बात. कमाल की बात ये है कि दोनों ने अपने 4000 टेस्ट रन भी एक बराबर इनिंग में ही पूरे किए थे. पुजारा और द्रविड़ दोनों ने अपने 4000 टेस्ट रन बनाने के लिए 84 इनिंग खेली थी.

एडिलेड में पुजारा बने ‘संकटमोचक’, ऑस्ट्रेलिया में पहला टेस्ट शतक ठोक बनाए 4 बड़े रिकॉर्ड

3000 रन, 67 इनिंग

इसी तरह 3000 टेस्ट रन भी पुजारा और द्रविड़ ने बराबर इनिंग में जड़े. दोनों ने 3000 टेस्ट रन तक पहुंचने के लिए 67 पारियां खेली.

यानी, बात सीधी सी है पुजारा कुछ नया नहीं कर रहे बस भारतीय क्रिकेट में द्रविड़ की लिखी स्टोरी को रिपीट कर रहे हैं. भारतीय क्रिकेट के लिए अगर ऐसे संयोग आगे भी बनते रहे तो इससे अच्छी बात नहीं हो सकती.