नई दिल्ली. निदाहस ट्रॉफी में श्रीलंका के खिलाफ भारत की जीत में वाशिंगटन सुंदर की भी भूमिका अहम रही. इस मैच में सुंदर ने अपने T20 करियर का बेस्ट प्रदर्शन करते हुए 21 रन देकर 2 विकेट लिए. इन 2 विकेटों के साथ इंटरनेशनल T20 क्रिकेट में वाशिंगटन सुंदर के विकेटों की संख्या 5 हो गई है. लेकिन, खास बात ये है कि सुंदर के इन पांचों विकेटों पर सिर्फ एक ही नाम दर्ज है.

सुंदर को बस कुशल चाहिए

इंटरनेशनल T20 क्रिकेट में वाशिंगटन सुंदर के सभी विकेटों पर छपा ये फेवरेट नाम है कुशल का. वाशिंगटन सुंदर ने 4 इंटरनेशनल T20 में अब तक सिर्फ दो बल्लेबाजों को बारी बारी से 5 मौकों पर अपना शिकार बनाया है. कमाल की बात है कि ये दोनों बल्लेबाज श्रीलंकाई हैं और दोनों का पहला नाम कुशल है. ये दो श्रीलंकाई बल्लेबाज हैं कुशल परेरा और कुशल मेंडिस.

इंटरनेशनल T20 में कुशल परेरा वाशिंगटन सुंदर का पहला शिकार रहे हैं. T20 करियर में चटकाए 5 विकेटों में से 3 बार उन्होंने कुशल परेरा को आउट किया है जबकि 2 बार कुशल मेंडिस को अपना शिकार बनाया है.

रन देने में कंजूस हैं वाशिंगटन सुंदर

लोकेश राहुल को 'दो कदम' पीछे जाना पड़ा महंगा , T20I में पड़े अलग-थलग

लोकेश राहुल को 'दो कदम' पीछे जाना पड़ा महंगा , T20I में पड़े अलग-थलग

सुंदर की काबिलियत ये है कि वो रन लुटाने में बेहद कंजूस हैं, जो कि T20 क्रिकेट में एक गेंदबाज के लिए सबसे जरूरी होता है. अब तक खेले 4 मैचों में सुंदर ने हम मुकाबले में अपने कोटे का पूरा ओवर डाला है. इन 4 मैचों में उन्होंने 22, 28, 23 और 21 रन दिए हैं.

निदाहस ट्रॉफी में जमा रहे रंग

निदाहस ट्रॉफी में भी वाशिंगटन सुंदर अपनी छाप छोड़ने में कामयाब रहे हैं. इस टूर्नामेंट में उन्होंने अब तक 12 ओवर में 6 की इकॉनोमी रेट से 72 रन दिए हैं और 4 विकेट चटकाए हैं. इस दौरान सुंदर का गेंदबाजी औसत और स्ट्राइक रेट दोनों 18 का रहा है. निदाहस ट्रॉफी में लिए 4 विकेटों में 2 बार सुंदर ने कुशल मेंडिस को आउट किया है और 2 बार कुशल परेरा को.

शार्दुल ठाकुर का खुलासा, श्रीलंका के खिलाफ इस रणनीति की वजह से जीती टीम इंडिया

शार्दुल ठाकुर का खुलासा, श्रीलंका के खिलाफ इस रणनीति की वजह से जीती टीम इंडिया

जनवरी 2013 से अब तक जितने भी गेंदबाज रहे हैं जिन्होंने अपने करियर में कम से कम 96 गेंदे फेंकी हैं उनमें दूसरा सबसे बेहतर इकॉनोमी रेट वाशिंगटन सुंदर का है. बहरहाल, जिस तरह से वो निदाहस ट्रॉफी में गेंदबाजी कर रहे हैं उससे ना सिर्फ वो भारत के लिए तो एक्स फैक्टर तो हैं ही लेकिन सबसे ज्यादा खतरा उन्होंने कुशल परेरा और कुशल मेंडिस के लिए पैदा कर दिया है , उनके दिलो-दिमाग पर अपने नाम का डर हावी कर.