विश्‍व कप 2007 में लीग स्‍तर से ही बाहर होने के बाद पाकिस्‍तान के पूर्व कोच बॉब वूल्‍मर (Bob Woolmer) की वेस्‍टइंडीज में संदिग्‍ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. इस मामले में शोएब अख्‍तर ने हैरान करने वाली जानकारी दी. अख्‍तर ने बताया कि मौत से एक रात पहले वूल्‍मर मेरे गले लगते हुए भावुक हो गए थे. उन्‍होंने कहा कि मैं तुम्‍हें मिस करूंगा. Also Read - कोविड-19 महामारी को लेकर शोएब अख्तर ने दिया बड़ा बयान, बोले- कंगाल करके छोड़ेगा कोराना

इंडिया टुडे से बातचीत करते हुए शोएब अख्‍तर ने कहा, वेस्‍टइंडीज में साल 2007 में वर्ल्‍ड कप से बाहर होने के बाद जब हम वापस लौट रहे थे तब एक रात पहले ही मैं उनसे मिला था. मैंने उनसे कहा था कि ज्‍यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है. हम वर्ल्‍ड कप से बाहर हुए हैं. यह कोई दुनिया का अंत नहीं है.” Also Read - कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में उतरे अख्तर, कहा 'हिंदु या मुस्लिम नहीं, इंसान बनने का समय है'

“जब मैं जाने लगा तो उन्‍होंने मुझे वापस बुलाया और गले लगते हुए कहा, शोएब मैं तुम्‍हें मिस करूंगा. मैंने भी उन्‍हें कहा कि मैं भी आपको मिस करूंगा। यही हमारी उनसे आखिरी मुलाकात थी.” Also Read - शोए‍ब अख्‍तर ने PSL के फ्रेंचाइजी मालिक की जमकर लगाई क्‍लास, ये है वजह

शोएब अख्‍तर ने कहा, “लोग सोचते हैं कि हम अक्‍सर काफी झगड़े किया करते थे लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं था. जब वूल्‍मर कोच बने तो वो नॉर्थ साउथम्‍पटन में मेरे पास आए और कहा कि शोएब मैं तुमसे किसी प्रकार की परेशानी नहीं चाहता हूं. मैंने उन्‍हें कहा कि आप गलत व्‍यक्ति से बात कर रहे हैं. आपको मेरी वजह से कोई दिक्‍कत नहीं होगी. फिर उन्‍होंने मुझे बताया कि बाकी लोगों ने तुम्‍हारी वजह से परेशानी होने की बात कही है.”

शोएब अख्‍तर ने आगे बताया कि हमारे बीच सोच का फर्क था. “मुझे लगता है कि क्रिकेट मैच विजेताओं का खेल है. अच्‍छा स्‍पेल, अच्‍छी पारी खेलकर आप टीम को मैच जिता सकते हो, लेकिन बॉब वूल्‍मर को लगता था कि क्रिकेट टीम का खेल है.”

“साल 2005 में इंग्‍लैंड की टीम एशेज जीतने के बाद पाकिस्‍तान आई. मैंने लगातार मैच विनिंग प्रदर्शन कर टीम को जीत दिलाई. वूल्‍मर मेरे पास आए और बोले तुम ठीक कहते थे. व्‍यक्तिगत प्रदर्शन से मैच जीते जाते हैं.”

“शोएब अख्‍तर ने बताया कि बॉब वूल्मर के इंजमाम उल हक के साथ अच्‍छे संबंध नहीं थे. ये बात पूरी टीम को पता थी. इंजमाम जब भी मेरे कमरे में आते तो मैं उन्‍हें शांत करता था. मैं उनके साथ हंसी मजाक करता और बाहर खाने के लिए लेकर जाता.”