मानसिक स्वास्थ्य को प्राथमिकता देते हुए ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर ग्लेन मैक्सवेल ने हाल ही में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से ब्रेक लिया था। हालांकि मैक्सवेल ने बिग बैश लीग 2019-20 के जरिए मैदान पर वापसी कर ली है लेकिन उन्हें भारत दौरे पर जाने वाली ऑस्ट्रेलियाई वनडे टीम में जगह नहीं मिली। इस बारे में कंगारू कप्तान एरोन फिंच का कहना है कि उन्हें पूरा यकीन है कि मैक्सवेल जल्द ही टीम में वापसी करेंगे।

भारत पहुंचे फिंच ने बीबीएल में मैक्सवेल के प्रदर्शन की जमकर तारीफ की, उन्होंने कहा, “लोग पारी को देखते हैं और फिर नतीजे देखते हैं और फिर छक्के और बड़े शॉट्स देखते हैं लेकिन जिस तरह से उसने कल रात खेला वो अहम है।”

कप्तान ने आगे कहा, “जिस तरह से उसने खुद को शुरूआत में मौका दिया और फिर बाद में विपक्ष पर दबाव डाला। एक बार वो टिक जाता है तो आप उसे कहीं पर भी गेंदबाजी नहीं कर सके। उसके पास हर सवाल का जवाब है।”

IND vs AUS: वनडे सीरीज के लिए भारत लैंड हुई ऑस्‍ट्रेलियाई टीम, जानें पूरा कार्यक्रम

मैक्सवेल के भारत दौरे पर ना आने को 2023 में भारत में होने वाले वनडे विश्व कप से जोड़कर देखा जा रहा है। मैक्सवेल, जो कि मार्च में भारतीय जमीन पर इंडियन प्रीमियर लीग में हिस्सा लेने वाले हैं, अपने प्रदर्शन के दम पर सीमित ओवर स्क्वाड में वापसी कर सकते हैं।

टीम में मैक्सवेल के स्पॉट के बारे में फिंच ने कहा, “ये कभी बंद नहीं था लेकिन जब आप एक टीम चुनते हैं तो उसमें एक स्पॉट होता ही है। बात केवलल सही समय पर सही जगह पर मौजूद रहने की होती है। शीर्ष तीन बल्लेबाजों के लिए आप कुछ ही खिलाड़ियों को चुन सकते हैं। उदाहरण के तौर पर शॉन मार्श को ले लीजिए, वो निराश था कि पिछले कुछ सालों में अच्छे प्रदर्शन के बाद भी उसे मौका नहीं मिला लेकिन बाहर होने पर कोई भी निराश होगा।”

INDvSL 3rd T20: पुणे में कैसा रहेगा मौसम का हाल, जानिए- कौन रहेगा किसपर हावी

भारत पहुंच चुकी ऑस्ट्रेलिया टीम 14 जनवरी को मुंबई वनडे की साथ सीरीज की शुरुआत करेगी। फिंच का मानना है कि भारत में स्पिन की मददगार पिचों की वजह से बल्लेबाजी करना मुश्किल होता है।

उन्होंने कहा, “ये ऐसी जगह है जहां पारी की शुरुआत करना मुश्किल है, गेंद शुरुआती में स्विंग करती है, जल्दी स्पिन करती है। लेकिन एक बार आप सेट हो जाते हैं तो ये बल्लेबाजी के लिए खूबसूरत जगह है, आउटफील्ड तेज है इसलिए आपको इसका पूरा फायदा उठाना होता है। कोई भी शीर्ष क्रम बल्लेबाज एक बार 20-30 रन बना लेता है तो वो उसे आगे बढ़ाना चाहता है। ये हमारे शीर्ष चार बल्लेबाजों का काम होगा।”