बैंगलोर के खिलाफ मुकाबले में दिल्‍ली कैपिटल्‍स के स्‍टार स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन एक बार फिर मांकडिंग नियम को लेकर चर्चा में आए। उनके पास बैंगलोर के सलामी बल्‍लेबाज एरोन फिंच को मांकडिंग आउट करने का मौका था लेकिन उन्‍होंने ऐसा नही किया। इंग्‍लैंड के पूर्व कप्‍तान केविन पीटरसन ने मांकडिंग को लेकर अश्विन की सोच की प्रशंसा की।Also Read - कप्तान कोहली ने बताया युजवेंद्र चहल को टी20 विश्व कप स्क्वाड से बाहर रखने का कारण

टॉक स्‍पर्ट्स से बातचीत के दौरान केविन पीटरसन ने कहा कि मैं 10 साल के बच्‍चों के बीच खेले जा रहे क्रिकेट के दौरान मांकडिंग नियम के इस्‍तेमाल को देखकर हैरान था। मांकडिंग अब कोचिंग मैन्युअल का हिस्‍सा है। ऐसे में अब इसकी इजाजत दी जानी चाहिए। Also Read - IPL 2021: Gautam Gambhir ने कर दी वकालत, Ravichandran Ashwin बनेंगे Delhi Capitals के नए कप्तान!

पीटरसन ने कहा कि रविचंद्रन अश्चिवन के गेंद डालने से पहले ही एरोन फिंच करीब दो मीटर तक नॉनस्‍ट्राइकर एंड पर लाइन से आगे थे। मुझे लगता है कि अश्विन ने जो भी किया वो सही था। फिंच को अपनी क्रीज के अंदर ही रहना चाहिए था। उन्‍हें इस तरह से रन चुराने का प्रयास नहीं करना चाहिए था। Also Read - अश्विन टेस्‍ट में ही ठीक है, कभी नहीं दूंगा अपनी टी20 टीम में जगह: संजय मांजरेकर

पीटरसन का मानना है कि अब क्रिकेट का खेल काफी प्रतिस्‍पर्धी हो गया है। हम बेहद कम मार्जन पर काम कर रहे हैं। इस खेल में अब काफी पैसा भी लगा होता है। खिलाड़ी अपना कांट्रैक्‍ट हार और जीत के आधार पर ही पाते हैं। मुझे लगता है कि नॉनस्‍ट्राइकर एंड के बल्‍लेबाज को लाइन के अंदर ही रहना चाहिए।

‘एक साल पहले जब मैंने अश्विन को ऐसा करते देखा था तो मेरा रिएक्‍शन था, “कम ऑन …ऐसा तो मत करो। 12 महीने तक इस बारे में सोचने के बाद जो उन्‍होंने किया वो पूरी तरह से सही है।’