Photo: India today

Photo: India today

एडिलेड,10 दिसम्बर | आस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम ने टेस्ट क्रिकेट में लगातार रन उगल रहे स्टीवन स्मिथ (नाबाद 162) और कप्तान माइकल क्लार्क (128) की उम्दा शतकीय पारियों की बदौलत एडिलेड ओवल मैदान पर भारत के साथ जारी चार मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मुकाबले के दूसरे दिन बुधवार का खेल खत्म होने तक अपनी पहली पारी में सात विकेट पर 517 रन बना लिए। बारिश के कारण दूसरे दिन सिर्फ 30.4 ओवर का खेल सम्भव हो सका। खराब रोशनी के कारण खेल रोके जाने तक स्मिथ 231 गेंदों पर 21 चौकों के साथ नाबाद लौटे जबकि मिशेल जानसन ने अभी खाता नहीं खोला है। क्लार्क का विकेट कर्ण शर्मा द्वारा फेंके गए पारी के 120वें ओवर की दूसरी गेंद पर गिरा। आस्ट्रेलिया ने क्लार्क का विकेट गिरने के बाद सिर्फ चार गेंदों का सामना किया।

क्लार्क ने अपनी 163 गेंदों की पारी में 18 बार गेंद को सीमा रेखा के बाहर भेजा। क्लार्क पहले दिन 60 के निजी योग पर रिटायर्ड हर्ट हुए थे लेकिन बुधवार को वह हर तरह के शॉट्स खेलते वक्त काफी सहज दिखे। क्लार्क ने स्मिथ के साथ सातवें विकेट के लिए 163 रनों की साझेदारी निभाई। पहला दिन अगर सलामी बल्लेबाज डेविड वार्नर (145) के नाम रहा तो दूसरा दिन कप्तान क्लार्क और खासकर स्मिथ के नाम रहा, जिन्होंने अपने करियर का पांचवां शतक लगाया। साथ ही उन्होंने अपनी अब तक का सबसे बड़ा निजी योग भी स्थापित किया। इससे पहले स्मिथ का सर्वोच्च व्यक्तिगत योग 138 नाबाद था।

दूसरी ओर, कप्तान क्लार्क ने 28वां शतक पूरा किया। एडिलेड ओवल में क्लार्क का औसत 100 से ऊपर है। उन्होंने अपनी इस प्रतिष्ठा को कायम रखते हुए कुछ बेहतरीन शॉट्स लगाए और पहले दिन से ही खराब गेंदबाजी तथा लचर क्षेत्ररक्षण कर रही भारतीय टीम को लगातार निराश किया। भारत की ओर से अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहे लेग स्पिनर कर्ण शर्मा ने दो विकेट लिए हैं। दिन का एकमात्र विकेट कर्ण के ही नाम रहा। कर्ण ने इस मैच में वार्नर और क्लार्क के रूप में दो अहम विकेट लेकर अपने पर्दापण को एक लिहाज से सार्थक करार दिया है।

बारिश के कारण दूसरे दिन का खेल बुरी तरह प्रभावित हुआ। भोजनकाल, चायकाल और यहां तक कि दिन का खेल भी निर्धारित समय से पहले खत्म कर दिया गया। पहले सत्र में सिर्फ 12.2 ओवर फेंके जा सके थे जबकि दूसरे सत्र में तो 11 गेंदें ही फेंकी जा सकीं। तीसरे सत्र में 16.3 ओवरों का खेल सम्भव हो सका। अब तीसरे दिन का खेल निर्धारित समय से लगभग आधे घंटे पहले शुरू होगा और बाकी के दिनों में भी सम्भवत: ऐसा ही होगा क्योंकि जो 60 ओवर के खेल का समय जाया हुआ है, उसकी भरपाई जरूरी है।