नई दिल्ली: इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक ने आदिल राशिद को लेकर छिड़ी बहस को खारिज करते हुए कहा कि उनका चयन स्वाभाविक था. कुक ने कहा कि चयनकर्ताओं ने भारत के खिलाफ पहले टेस्ट के लिए इस स्पिनर को चुनकर ‘साहसिक फैसला’ किया. मौजूदा काउंटी सत्र से पूर्व लाल गेंद के क्रिकेट को अलविदा कहने और सितंबर से प्रथम श्रेणी क्रिकेट नहीं खेलने के बावजूद राशिद को भारत के खिलाफ पांच मैचों की श्रृंखला के पहले टेस्ट के लिए इंग्लैंड की टीम में चुना गया.

पिछले पांच दिनों इस फैसले को लेकर जमकर बहस छिड़ी हुई है. पूर्व कप्तानों माइकल वान और नासिर हुसैन ने चयनकर्ताओं के फैसले की आलोचना की है. कुक ने कहा, ‘‘एकदिवसीय मैचों में आदिल जिस तरह खेल रहा था और गेंदबाजी कर रहा था उसे देखते हुए यह चयन स्वाभाविक लगता है. वह शानदार गेंदबाजी कर रहा था लेकिन मुझे पता है कि अलग प्रारूप में.’’ उन्होंने कहा, ‘‘उसने अपने एकदिवसीय कौशल पर काफी मेहनत की है और पिछली दो श्रृंखला से शानदार गेंदबाजी कर रहा है. उसे इंग्लैंड की ओर से खेलने के लिए चुना गया है तो बेहद सम्मान की बात है.’’

न्यूजीलैंड के खिलाफ घोषित हुआ वनडे और टी-20 का शेड्यूल, पढ़ें कब और कहां खेले जायेंगे मैच

कुक ने कहा, ‘‘यह असमान्य है इसलिए ऐसा पहले नहीं हुआ. मुझे नहीं लगता कि आगे चलकर भी यह काफी बार होगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘बेशक एड स्मिथ (मुख्य चयनकर्ता) ने कहा कि उसे लाल गेंद से क्रिकेट खेलना होगा (भविष्य में चुने जाने के लिए) और मुझे लगता है कि यह सही है. लेकिन कभी कभी आसाधारण हालात में चयन आपकी पसंद से अलग जाता है और बेशक एड और चयनकर्ताओं ने साहसिक फैसला किया.’’