कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते लगभग 2 महीनों से खेल की सभी गतिविधियां ठप्प हैं. कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए भारत सहित कई देशों में लॉकडाउन घोषित है. खिलाड़ी अपने घरों में कैद होने को मजबूर हैं. ऐसे में भारतीय एथलेटिक्स महासंघ (AFI) ने अपने एथलीटों को बड़ा झटका देते हुए उन्हें इस साल विदेशी टूर्नामेंर्टों में भाग लेने से रोक दिया है. भारतीय एथलीट इस साल विदेश का यात्रा नहीं कर सकेंगे. Also Read - भारत लौटेंगे तीन महीने से जर्मनी में फंसे शतरंज चैंपियन विश्वनाथन आनंद

एएफआई के अध्यक्ष आदिल सुमारिवाला ने कहा है कि कोराना वायरस महामारी के कारण कोई भी भारतीय खिलाड़ी इस साल विदेशों में होने वाले प्रतियोगिताओं में भाग नहीं लेगा. उन्होंने कहा कि यह फैसला खिलाड़ियों की सुरक्षा को ध्यान में रख कर लिया गया है. Also Read - कोविड-19 महामारी की भेंट चढ़ा 36वां राष्ट्रीय खेल,अनिश्चितकाल तक के लिए टाला गया

डायमंड लीग के हिस्सा नहीं होंगे भारतीय एथलीट  Also Read - ICC के लगाए बैन और कोरोनावायरस के बीच वापसी के दिन गिन रहे हैं शाकिब अल हसन

इसका मतलब यह हुआ कि भारतीय खिलाड़ी 14 अगस्त से शुरू हो रही प्रतिष्ठित डायमंड लीग प्रतियोगिता में भाग नहीं ले सकेंगे. टोक्यो ओलंपिक के लिए भाला फेंक में क्वालीफाई करने वाले वाले नीरज चोपड़ा और शिवपाल सिंह भी इसमें भाग नहीं ले पाएंगे.

सुमारिवाला ने विश्व एथलेटिक्स के प्रमुख सेबस्टियन को के साथ एक वीडियो कांफ्रेंस में कहा, ‘हमारी अपने एथलीटों को 2021 से पहले विदेश भेजने में रुचि नहीं हैं. तब तक हमारे पास इसकी (कोराना वायरस महामारी) अच्छी समझ होगी. हमारे एथलीटों की सुरक्षा सर्वोपरि है. इसलिए हमारे कोई भी एथलीटों डायमंड लीग में भाग नहीं लेगा. जो एथलीट फिलहाल राष्ट्रीय शिविरों में हैं वे अगले तीन महीने तक वहीं रहेंगे.’

अक्टूबर के बाद मिलेगा आराम का मौका 

उन्होंने कहा, ‘हमारी योजना है कि एथलीट 12 सितंबर से शुरू होने वाले भारतीय सर्किट के पांच स्पर्धाओं में चुनौती पेश करें. अक्टूबर के बाद उन्हें आराम का मौका मिलेगा. अगर स्थिति में सुधार हुआ तो अगले साल हम यूरोप में प्रशिक्षण (कार्यक्रम) करने की हमारी योजना है ताकि खिलाड़ी ओलंपिक के दौरान अपने सर्वश्रेष्ठ लय में रहे.’

अस्थायी कैलेंडर तैयार 

इस महीने की शुरुआत में एएफआई ने इस साल के लिए एक अस्थायी कैलेंडर तैयार किया है. जिसकी शुरुआत 12 सितंबर को इंडियन ग्रां प्री के साथ होगी. इसमें दो महीने से भी कम समय में तीन राष्ट्रीय चैंपियनशिप का आयोजन होगा.

गौरतलब है कि कोरानावायरस से पूरी दुनिया में अब तक पौने तीन लाख से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं जबकि 35 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं. भारत में संक्रमितों की संख्या 80 हजार को पार कर चुका है.