नई दिल्ली: अफगानिस्तान की टीम तीन टी20 मैचों की श्रृंखला के पहले मैच में रविवार को जब देहरादून में बांग्लादेश के खिलाफ उतरेगी तो उसकी नजरें दो हफ्ते के भीतर होने वाले अपने एतिहासिक टेस्ट पदार्पण की तैयारी पर भी टिकी होंगी. भारत के खिलाफ अफगानिस्तान के पहले टेस्ट की तारीखों की घोषणा जनवरी में ही कर दी गई थी. लेकिन यहां के राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में बांग्लादेश के खिलाफ श्रृंखला की पुष्टि पिछले महीने ही हुई.

इस कार्यक्रम के बाद अफगानिस्तान के पास टेस्ट और टी20 टीमों की संयुक्त तैयारी के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है. दो भिन्न प्रारूपों की टीमें टुकड़ों में ट्रेनिंग कर रही हैं. पांच दिवसीय टीम सुबह के सत्र में जबकि टी20 टीम शाम के सत्र में ट्रेनिंग कर रही है.

टीम इंडिया की विकेटकीपिंग के लिए तैयार हुआ यह खिलाड़ी, साहा की गैरमौजूदगी में संभालेगा जिम्मेदारी !

अफगानिस्तान की टीम में हालांकि सिर्फ पांच खिलाड़ी ऐसे हैं जिन्हें दोनों टीमों में जगह मिली है. ये खिलाड़ी कप्तान असगर स्टेनिकजई, मोहम्मद शहजाद, राशिद खान, मुजीब जादरान और मोहम्मद नबी हैं. कोच फिल सिमंस ने कहा कि वह भारत के खिलाफ मैच से पूर्व अधिक अभ्यास मैच चाहते थे लेकिन आजकल के कार्यक्रम को देखते हुए उन्हें सीमित समय में ही अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करना होगा. टीम अपने दूसरे ‘घरेलू मैदान’ पर 10 दिन पहले ही पहुंची है और सिमंस के मार्गदर्शन में खिलाड़ी कड़ी ट्रेनिंग कर रहे हैं.

अफगानिस्तान की टीम इससे पहले ग्रेटर नोएडा में तेज गर्मी में अभ्यास कर रही थी और यहां के हालात में खिलाड़ी अधिक सहज हैं. यहां का स्टेडियम कल भारत का 51वां अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम बनेगा. हालांकि कड़ी सुरक्षा के कारण खिलाड़ियों के लिए उत्तराखंड की राजधानी में घूमना लगभग नामुमकिन हो गया है. रमजान के पाक महीने में रोजे के बीच ट्रेनिंग ने भी खिलाड़ियों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं.

VIDEO: थाणे पुलिस ने अरबाज से की पूछताछ, सलमान के बॉडीगार्ड शेरा भी पहुंचे साथ

दुनिया की आठवें नंबर की टीम अफगानिस्तान की रैंकिंग बांग्लादेश से बेहतर है लेकिन दोनों टीमों के बीच काफी अंतर नहीं है. दोनों टीमों के बीच अब तक सिर्फ एक टी20 मैच विश्व टी20 2014 में खेल गया था और उसे बांग्लादेश ने नौ विकेट से जीता था. हालांकि अफगानिस्तान की टीम ने तब से छोटे प्रारूप में लंबा रास्ता तय किया है और उसके खिलाड़ी इस प्रारूप में बड़ी टीमों को भी हराने में सक्षम हैं. अफगानिस्तान के लिए उसके स्टार स्पिनर राशिद खान महत्वपूर्ण होंगे जबकि बांग्लादेश अपने प्रेरणादायी कप्तान साकिब अल हसन पर काफी निर्भर करेगा.

आईपीएल के बाद सीधे लॉर्ड्स में आईसीसी विश्व एकादश की ओर से खेलने गए राशिद के शनिवार को राष्ट्रीय टीम से जुड़ने की उम्मीद है. बांग्लादेश की टीम चार दिन पहले देहरादून पहुंची है और धीरे धीरे लय में आ रही है. टीम यहां अपने बायें हाथ के तेज गेंदबाज मुस्तफिजुर रहमान के बिना आई है जो आईपीएल के दौरान लगी चोट के कारण अंतिम समय में टीम से हट गए.