नई दिल्ली. अपने गढ़ में खेलते हुए विराट एंड कंपनी को एक बार फिर हार से दो-चार होना पड़ा है. चिन्नास्वामी मैदान पर खेले मुकाबले में दिनेश कार्तिक की अगुवाई वाली कोलकाता की टीम ने विराट के चैलेंजर्स को 6 विकेट से हराया. ये IPL-11 में विराट की टीम लगातार दूसरी और ओवरऑल 5वीं हार है . टॉस हारने के बाद मुकाबले में पहले बल्लेबाजी करने उतरी RCB ने कप्तान विराट कोहली के नाबाद 68 रन की पारी की बदौलत 20 ओवर में 4 विकेट खोकर 175 रन बनाए.  इस स्कोर के बाद विराट गदगद थे क्योंकि उनकी टीम ने उम्मीद से 10 रन ज्यादा बना लिए थे. लेकिन, जब कोलकाता की टीम लक्ष्य का पीछा करने उतरी तो उनकी सारी उम्मीद तहस-नहस हो गई. Also Read - India vs England: जो रूट चाहते हैं भारतीय स्पिनरों का बहादुरी से सामना करें इंग्लिश बल्लेबाज

विराट का कबूलनामा Also Read - India vs England: चौथे टेस्ट से पहले पिच की आलोचना पर बोले रहाणे 'लोग जो कह रहे है, उन्हें कहने दीजिए'

बैंगलोर के कप्तान विराट कोहली का मानना है कि उन्हें ये करारी हार स्कोर बोर्ड पर 10 रन ज्यादा जोड़ने के बाद मिली. यानी, जीत के लिए जितने की जरुरत थी वो और उनकी टीम ने उससे 10 रन ज्यादा बनाए. विराट ने कहा, ” हमने जब भी चिन्नास्वामी पर खेला यहां कि पिच ने हमें सरप्राइज दिया. 175 रन यहां जीत के बहुत बढ़िया स्कोर था. एक स्टेज पर हम सिर्फ 165 रन बनाने की सोच रहे थे लेकिन हमने 10 रन ज्यादा बनाए.” Also Read - Top 10 Most followed Person on instagram: इंस्टाग्राम पर 10 सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले व्यक्ति, विराट कोहली हैं कोसों पीछे

चिन्नास्वामी में 175+ बनाने के बाद छठी हार

आईए अब आपको बताते हैं कि विराट कोहली और उनकी टीम के लिए KKR से मिली हार के मायने क्या हैं. चिन्नास्वामी मैदान पर ये छठा मौका था जब 175 या उससे ज्यादा का स्कोर डिफेंड करने में RCB नाकाम रही. इससे पहले वो 8 बार इस मैदान पर 175 और उससे ज्यादा का स्कोर डिफेंड करने में कामयाब रहे हैं, जबकि 1 बार मुकाबला बेनतीजा रहा था. IPL के रिकॉर्ड की बात करें तो अब तक 30 बार इस टीम ने 175+ का स्कोर बनाया है, जिसमें 18 बार वो इसे डिफेंड करते हुए जीते हैं जबकि 11 बार हारे हैं वहीं 1 मुकाबला बेनतीजा रहा है.

हार के मामले में नंबर 2

विराट एंड कंपनी को IPL की सबसे ताकतवर टीमों में माना जाता है, जिसने अब तक खिताब बेशक न जीता हो लेकिन हर सीजन में ये टीम खिताबी जीत की दावेदार जरूर रही है. हालांकि, इसके बावजूद ये टीम IPL में सबसे ज्यादा मुकाबला गंवाने वाली टीमों में दूसरे नंबर पर है. IPL में सबसे ज्यादा 87 मुकाबले दिल्ली की टीम ने हारे हैं जबकि उसके बाद 81 हार के साथ बैंगलोर दूसरे नंबर पर है वहीं इस लिस्ट में 80 हार के साथ पंजाब की पलटन नंबर तीन पर है.

विराट एंड कंपनी की मुश्किल डगर

कोलकाता से मिली हार के बाद साफ है कि विराट की पलटन के लिए इस सीजन न सिर्फ अपने विरोधियों का घर जीतना दूर की कौड़ी नजर आ रहा है बल्कि अपना घर बचाने में भी उन्हें नाको चने चबाने पड़ रहे हैं. इस सीजन अब तक खेले 7 मैचों में वो सिर्फ 2 मुकाबले ही जीत पाए हैं. और, ये दोनों मैच उन्होंने अपने होमग्राउंड यानी कि चिन्नास्वामी पर ही जीते हैं. इसका मतलब है कि घर से बाहर उन्हें अब भी IPL-11 में पहली जीत का इंतजार है.