नयी दिल्ली: बीसीसीआई की 30 से अधिक राज्य इकाइयों के आगामी चुनावों पर संदेह के बादल छा गए हैं क्योंकि प्रशासकों की समिति (सीओए) ने अधिकारियों के कार्यकाल को लेकर नए नियम का पालन करने को कहा है जिससे अधिकांश सदस्यों के मतदान के अधिकार खत्म हो सकते हैं.Also Read - IND vs SA: खटाई में पड़ सकता है साउथ अफ्रीका दौरा, Virat Kohli ने तोड़ी चुप्पी, BCCI से मांगा जवाब

ये चुनाव 28 सितंबर को होने थे लेकिन अब इसके कार्यक्रम में बदलाव हो सकता है क्योंकि सीओए ने राज्य संघों को सुनिश्चित करने को कहा है कि अधिकारियों के छह साल के कार्यकाल की सीमा में उनके अपनी संस्थाओं की कार्य समितियों में बिताए समय को भी शामिल किया जाए. Also Read - SA vs IND: कोरोना के तीसरे वैरिएंट के बीच भारत का साउथ अफ्रीका दौरा, कप्तान ने जताया 'बायो-बबल' कदमों पर भरोसा

इसी दौरान तीन मैचों की सीरीज का पहला मैच बारिश की भेंट चढ़ जाने के बाद भारत और दक्षिण अफ्रीका की टीमें बुधवार को यहां आईएस बिंद्रा स्टेडियम में होने वाले दूसरे टी-20 मैच में बढ़त लेने के इरादे से मैदान में उतरेंगी. दोनों टीमों के बीच धर्मशाला में रविवार को पहला मैच एक भी गेंद फेंके बिना ही रद्द हो गया था. Also Read - Official CSK IPL 2022 Retention List: धोनी से ज्‍यादा राशि में रिटेन हुए रवींद्र जडेजा, यहां देखें चेन्‍नई की लिस्‍ट

भारतीय टीम वेस्टइंडीज दौरे के शानदार समापन के बाद आत्मविश्वास से भरी हुई है. भारत ने वेस्टइंडीज दौरे पर टेस्ट, वनडे और टी-20 में क्लीन स्वीप किया था. भारत ने विंडीज को हर प्रारूप में एकतरफा मात दी थी और अब वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भी यही करना चाहेगी. विंडीज के खिलाफ टी-20 सीरीज में रोहित शर्मा और कप्तान विराट कोहली ने रन किए थे तो वहीं गेंदबाजों में युवा नवदीप सैनी ने पदार्पण सीरीज में ही काफी प्रभावित किया था. विंडीज और दक्षिण अफ्रीका में हालांकि काफी अंतर है, लेकिन हार्दिक पांड्या के आने से मेजबान टीम और मजबूत हो गई है. विंडीज दौरे पर उन्हें आराम दिया गया था.

करियर खत्म होने के 12 साल बाद लिया इस खिलाड़ी ने संन्यास, फिल्मों में भी आजमाई थी किस्मत