नई दिल्ली : ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले टीम इंडिया के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे कहा कि हमें लम्बी साझेदारियां बनानी होंगी. रहाणे का मानना है कि ऑस्ट्रेलिया सीरीज जीत का प्रबल दावेदार भी है. उनका है कि सीरीज में ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की नजर स्टार बल्लेबाज पर है. ऐसे में दूसरे बल्लेबाजों को एक छोर से अपना काम करने में मदद मिलेगी. उन्होंने साल 2014-15 में मेलबर्न में टेस्ट में कोहली के साथ 262 रन की साझेदारी निभाई थी. उपकप्तान ने इस पारी का उदारण देकर अपनी बात कही. Also Read - शुबमन गिल की तस्वीर पर Yuvraj Singh ने ली चुटकी, साथ ही क्रिकेटर को दी सीख

Also Read - VVS Laxman ने Virat Kohli की तारीफ में पढ़े कसीदे, बोले-तब मुझे लगा था कि वह...

रहाणे ने कहा, ‘‘हर बल्लेबाज का काम टीम के लिये योगदान देना है. हमें पिछली बार की तरह लंबी साझेदारियां बनानी होगी . इससे ऑस्ट्रेलिया में श्रृंखला जीतने में मदद मिलेगी. पिछली बार एमसीजी पर हमने साझेदारी का पूरा मजा लिया. मिशेल जॉनसन का फोकस विराट कोहली पर था और दूसरे छोर से मैं मजे से अपना स्वाभाविक खेल दिखा रहा था. दूसरे छोर पर विराट काफी आक्रामक था, बल्ले से भी और मुंह से भी.’’ Also Read - IND vs AUS 2020/ 21 Dream11 Team Prediction: पहले T20 में ऐसा हो सकता है भारत-ऑस्ट्रेलिया का Playing XI

उन्होंने कहा, ‘‘इससे मुझे खेल पर फोकस करने और अपना स्वाभाविक खेल दिखाने में मदद मिली. मैं विराट से बिल्कुल विपरीत खेलता हूं. आपको समझना होता है कि हर किसी की भूमिका अलग अलग है. यह टीम का खेल है और विराट भी यह समझता है.’’

एडिलेड में कोहली के सामने गांगुली-द्रविड़ के इतिहास को दोहराने की चुनौती

दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के खिलाफ भारतीय बल्लेबाजों की काफी आलोचना हुई थी जहां सिर्फ कोहली ही चल सके थे. रहाणे ने कहा, ‘‘लोग आलोचना करेंगे या तारीफ करेंगे लेकिन हमें कठिन दौर में एकजुट रहना होगा. इंग्लैंड में हालात काफी चुनौतीपूर्ण थे और इंग्लिश बल्लेबाज भी जूझते दिखे. एलिस्टर कुक की आखिरी टेस्ट पारी के अलावा कोई बड़ा स्कोर नहीं बना सका. इसलिये आलोचना पर फोकस करने की जरूरत नहीं है और ना ही प्रशंसा पर.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हर श्रृंखला में नये सिरे से शुरूआत करने की जरूरत है. इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में हमने सबक ले लिया और अब सुधार के साथ खेलेंगे. इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में अच्छी शुरूआत जरूरी है.’’

कोहली को माइंडगेम से परेशान करेंगे ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी, रिकी पोटिंग ने दी सलाह

स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर के बिना ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी को कमजोर माना जा रहा है लेकिन रहाणे ने कहा कि अपने मैदान पर ऑस्ट्रेलिया का दावा पुख्ता होगा. उन्होंने कहा, ‘‘अपनी सरजमीं पर हर टीम अच्छा खेलती है और ऑस्ट्रेलिया सीरीज जीतने की प्रबल दावेदार है. उन्हें स्मिथ और वॉर्नर की कमी खलेगी लेकिन वे कमजोर नहीं है. उनकी गेंदबाजी काफी दमदार है और टेस्ट क्रिकेट में यह बहुत जरूरी है.’’