ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के पहले मैच में 36 रन पर ऑलआउट होने के बाद 8 विकेट से मिली करारी हार के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) के स्वदेश लौटने से टीम इंडिया की स्थिति और ज्यादा कमजोर हो गई। ऐसे में अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) ने टीम की कमान संभालते हुए बॉक्सिंग डे टेस्ट में शानदार शतक जड़ भारतीय टीम को जीत दिलाई और सीरीज में वापसी की।Also Read - RCB के हितों को ध्‍यान में रखते हुए Virat Kohli दो करोड़ रुपये सैलरी के रूप में कम लेंगे: पार्थिव पटेल

रहाणे की बल्लेबाजी फॉर्म में सुधार के पीछे के कारण के बारे में बात करते हुए उनके कोच प्रवीण आम्रे ने कहा कि कोरोना महामारी के बीच ब्रेक के दौरान अपने अभ्यास सेशन खुद तैयार करके उन पर अमल करने से उन्हें ऑस्ट्रेलिया के मौजूदा दौरे पर फायदा मिला। रहाणे के 112 रन की मदद से भारत ने मेलबर्न में दूसरा टेस्ट जीतकर सीरीज में वापसी की। Also Read - ICC Test Rankings: पहली बार टॉप-5 में Shaheen Afridi, जानिए किस स्थान पर Shreyas Iyer?

ये पूछने पर कि दौरे से पहले उन्होंने रहाणे को क्या संदेश दिया था, आम्रे ने कहा कि उन्होंने बस बेसिक्स पर फोकस रखने की सलाह दी थी।उन्होंने कहा, ‘‘एक समय पर हम कई दौरों के बारे में नहीं सोचते हैं। हम एक समय पर एक ही दौरे के बारे में सोचते हैं और यही अजिंक्य ने किया।’’ Also Read - RCB में ग्‍लेन मैक्‍सवेल ही होंगे विराट कोहली के उत्‍तराधिकारी, फ्रेंचाइजी के पूर्व कप्‍तान ने किया दावा

उन्होंने कहा, ‘‘इस साल खास तौर पर उसे श्रेय दिया जाना चाहिए क्योंकि अक्सर हम कोच सेशन की तैयारी और उस पर अमल करते हैं लेकिन कोरोना महामारी के बीच उसने खुद योजना बनाई और उन पर अमल किया। उसने पहले से ज्यादा मेहनत की और एक दिन में दो दो सेशन में अभ्यास किया। उसने छोटी छोटी चीजों पर मेहनत की। सफलता यूं ही नहीं मिल जाती, उसके लिए काफी मेहनत करनी होती है।’’

विराट कोहली की अगुवाई में दूसरे टेस्ट में रहाणे की कप्तानी की भी काफी तारीफ हुई। आम्रे ने कहा, ‘‘इसका श्रेय भी अजिंक्य को जाता है क्योंकि कोच होने के नाते हम कप्तानी जैसी चीजों पर काम नहीं करते। हम बल्लेबाजी पर ही फोकस करते हैं।’’