इंदौर। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर को आठ विकेट से हराने वाली किंग्स इलेवन पंजाब ने कहा कि उसे होलकर स्टेडियम के अपेक्षाकृत छोटे मैदान पर 149 रनों का विजयी लक्ष्य पाने का पूरा भरोसा था। किंग्स इलेवन पंजाब की ओर से शानदार प्रदर्शन के चलते ‘मैन ऑफ द मैच’ चुने गए अक्षर पटेल ने मुकाबले के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि होलकर स्टेडियम का मैदान दूसरे स्टेडियमों की तुलना में छोटा है और इस पर 180 से 200 रनों के स्कोर का पीछा किया जा सकता है। लिहाजा हमें पूरा भरोसा था कि हम 149 रनों का लक्ष्य हासिल कर मैच जीत जायेंगे।

आरसीबी की ओर से खासकर आखिरी ओवरों में एबी डिविलियर्स की घातक बल्लेबाजी के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमारे गेंदबाजों ने पूरा प्रयास किया, लेकिन एबी डिविलियर्स ने अविश्वसनीय शॉट खेले। उन्होंने अच्छी बल्लेबाजी की। उन्होंने एक सवाल पर स्वीकार किया कि आगामी चैम्पियंस ट्रॉफी के मद्देनजर उनके सामने आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन कर चयनकर्ताओं का ध्यान खींचने का मौका है। हालांकि, उन्होंने कहा कि फिलहाल उनका पूरा ध्यान आईपीएल में अपनी टीम किंग्स इलेवन पंजाब के लिये सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पर है।

पटेल ने माना कि इस मुकाबले में किंग्स इलेवन पंजाब को विकेट से मदद मिली और आरसीबी इस पर बड़ा स्कोर खड़ा नहीं कर सकी। उन्होंने कहा कि हम गेंदबाजों से कहा गया था कि किसी गेंद पर छक्का पड़ने पर भी मूल योजना पर ही आगे बढ़ा जाए। अगर कामयाबी नहीं मिलती है, तो ही मूल योजना में बदलाव किया जाए। हम आरसीबी के बल्लेबाजों के खिलाफ अपनी योजना में सफल रहे।

पारी के पहले ही ओवर में आरसीबी के कप्तान शेन वॉटसन का विकेट चटकाने वाले 23 वर्षीय गेंदबाज ने कहा कि मुझे ऐन मौके पर पता चला कि पहला ओवर मुझसे डलवाया जाना है। हमारे कप्तान (ग्लेन मैक्सेवल) आस्ट्रेलिया के हैं और वॉटसन भी इसी देश से खेलते हैं। लिहाजा हमारे कप्तान को अपने देश के बल्लेबाजों की कमजोरियां अच्छी तरह पता हैं।