नई दिल्ली. जब कोई अपना हमेशा के लिए साथ छोड़ दे तो आसान नहीं होता उसकी भरपाई करना, उस नुकसान से उबर पाना. और, जब वो अपना जन्म देने वाली मां हो तो क्षति का अंदाजा लगाया जा सकता है. कुछ ऐसा ही एंटीगा टेस्ट में देखने को मिला, जहां इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच 3 टेस्ट मैचों की सीरीज का दूसरा टेस्ट खेला जा रहा था. इस टेस्ट मैच के आखिरी दिन वेस्टइंडीज के क्रिकेटर अलजारी जोसेफ को अपनी मां के गुजर जाने की खबर मिली, जिसकी सूचना 5वें दिन के खेल से पहले वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड ने सोशल मीडिया के जरिए दी.

ये खबर जोसेफ लिए बड़े सदमे की तरह थी. लेकिन, उन्होंने अटूट साहस और जबरदस्त इच्छाशक्ति का शानदार नमूना पेश किया और फौरन घर लौटने के बजाए अपनी टीम और अपने देश के लिए खेलने का फैसला किया, जिसकी क्रिकेट फैंस ने भी सराहना की.

मुश्किल वक्त में जोसेफ के इस फैसले से विरोधी टीम इंग्लैंड भी दंग रह गई. वो मुश्किल घड़ी में अल्जारी जोसेफ के साथ खड़ी नजर आई और बाजू पर काली पट्टी बांधकर अपना शोक व्यक्त किया.

वेस्टइंडीज के पूर्व धाकड़ बल्लेबाज विवि रिचर्ड्स ने अल्जारी जोसेफ को सलाम करते हुए कहा कि उनके इस फैसले पर उनकी मां को जरूर फक्र होगा. वहीं, इयाऩ बिशप ने भी उन्हें सांत्वना दी और ढाढस बंधाया.

वेस्टइंडीज के युवा क्रिकेटर अल्जारी के लिए अपनी मां को खोना दुनिया खोने जैसा था क्योंकि वो अपने मां के बेहद करीब थे.


हालांकि, इसके बावजूद उन्होंने आखिरी दिन मैदान पर उतरकर न सिर्फ बल्लेबाजी की बल्कि गेंदबाजी करने के साथ साथ टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई. उन्होंने मैच में 4 विकेट लिए, जिसमें 2 विकेट उस पल के रहे जब उन्हें मां के गुजरने की खबर मिल चुकी थी. मुश्किल वक्त में अल्जारी के इस प्रदर्शन की सराहना विदेशी क्रिकेटरों ने भी खूब की.

एंटीगा टेस्ट में वेस्टइंडीज ने इंग्लैंड को 10 विकेट से हराया, जिसे कैरेबियाई कप्तान जेसन होल्डर ने अल्जारी जोसेफ की मां को डेडिकेट किया.