नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेटर अंबाती रायडू ने कहा है कि क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का फैसला ‘जल्दबाजी’ भरा था और ‘अच्छे लोगों’ के साथ बातचीत के बाद उन्हें अपने इस फैसले को बदलना पड़ा. रायडू ने विश्व कप टीम में नहीं चुने जाने के बाद क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा कर दी थी. हालांकि फिर विश्व कप समाप्त होने के बाद उन्होंने अपने संन्यास लेने का फैसला वापस ले लिया था.

रायडू ने कहा कि संन्यास लेने के फैसले के बाद वह चेन्नई सुपर किंग्स और पूर्व खिलाड़ी वीवीएस लक्ष्मण के संपर्क में थे. रायडू ने क्रिकबज से कहा कि अच्छे लोगों ने मुझसे बात की थी और कहा कि यह सही समय नहीं है. उन्होंने कहा कि चेन्नई टीम प्रबंधन और लक्ष्मण भाई, लगातार मुझसे बात कर रहे थे और मुझे अचानक महसूस हुआ कि उनके कहने का क्या मतलब है. मुझे लगा कि जहां तक पहुंचने के लिए मुझे 20 साल लगा है, उसे मुझे क्यों छोड़ना चाहिए.

लोकेश राहुल के खराब प्रदर्शन पर बोले गांगुली, रोहित शर्मा को मिले टेस्ट में ओपनिंग का मौका

मैं अभी फिट हूं और खेल सकता हूं: रायडू
रायडू ने कहा कि इसलिए मैंने सोचा कि बिना कुछ मुझे खेल की तरफ लौटना चाहिए. मैं अभी फिट हूं और खेल सकता हूं. इसलिए मुझे लगता है कि संन्यास का फैसला थोड़ा जल्दबाजी में लिया गया था. मध्यक्रम बल्लेबाज रायडू ने माना कि विश्व कप से बाहर रहना उनके लिए निराशाजनक रहा.

विराट कोहली ने शेयर की ऐसी फोटो, फैंस ने पूछा- क्या चालान कटने के बाद हुआ ये हाल?

नंबर-4 के लिए बहुत मेहनत की थी: अंबाती
उन्होंने कहा कि मैं बहुत निराश था. मैंने नंबर-4 के लिए बहुत मेहनत की थी, लेकिन अंत में इस स्थान को लेकर उनके विचार ने अचानक सबकुछ बदल दिया. हो सकता है कि वे कुछ और चाहते थे. ईमानदारी से कहूं तो मैंने विश्व कप में खेलने के लिए बहुत अच्छी तैयारी की थी. (इनपुट एजेंसी)