नई दिल्‍ली: शुक्रवार को फिरोजशाह कोटला में जब दिल्‍ली डेयरडेविल्‍स का मुकाबला कोलकाता नाइट राइडर्स से होगा तो दिल्‍ली को एक खास खिलाड़ी से बचकर रहना होगा. कारण एक बार जम जाने पर उसके बल्‍ले से सिक्‍सर ऐसे निकलते हैं, कि विपक्षी टीम का दम निकल जाता है.

जी हां, हम बात कर रहे हैं ऑलराउंडर आंद्रे रसेल की. रसेल गेंदबाजी में अब तक खास कमाल नहीं कर पाए हैं, लेकिन उनका बल्‍ला आग उगल रहा है. रसेल बैटिंग करते हुए हर चार गेंद में एक छक्‍का जरूर लगाते हैं. उन्‍होंने इस सीजन की पांच पारियों में 71 गेंदें खेली हैं जिसमें से 19 गेंदों पर उन्‍होंने सिक्‍सर लगाया है.

रसेल ने छह मैच की पांच पारियों में 163 रन बनाए हैं ओर उनका स्‍ट्राइक रेट 229.57 है. रसेल के अलावा दो ही बल्‍लेबाज हैं जिन्‍होंने 200 से ज्‍यादा की स्‍ट्राइक रेट से रन बनाए हैं- ड्वेन ब्रावो और कृष्‍णप्‍पा गौतम. रसेल जब एक बार शुरू होते हैं तो उन्‍हें रोकना मुश्किल होता है. चेन्‍नई सुपर किंग्‍स के खिलाफ मुकाबले में उन्‍होंने 36 गेंदों पर 88 रन ठोंक डाले थे. इसमें चौका तो उन्‍होंने एक ही लगाया, लेकिन 11 छक्‍के उड़ाए. दिल्‍ली के खिलाफ इस सीजन के पहले मुकाबले में उन्‍होंने केवल 12 गेंदों पर 41 रन बनाए थे, जिसमें छह गगनचुंबी छक्‍के शामिल थे.

लीग के ग्‍यारहवें सीजन में 25वें मुकाबले तक सबसे ज्‍यादा सिक्‍सर किंग्‍स इलेवन पंजाब के ओपनर क्रिस गेल ने लगाए हैं. लेकिन सिक्‍सर लगाने के मामले में रसेल उनसे भी आगे हैं. अपने छह मेंस पांच मैच हार चुकी दिल्‍ली डेयरडेविल्‍स का भला इसी में है कि उसके गेंदबाज रसेल को सस्‍ते में निपटा दें. टीम के नए कप्‍तान श्रेयस अय्यर को इसके लिए खास रणनीति बनानी होगी, क्‍योंकि यदि रसेल खेल गए तो दिल्‍ली की टीम का खेल फिर से खराब कर सकते हैं.