कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच मैच के दौरान गेंद पर थूक के इस्‍तेमाल पर लगाई गई रोक पर आईसीसी क्रिकेट समिति के अध्‍यक्ष अनिल कुंबले (Anil Kumble) की तरफ से सफाई दी गई. कुंबले ने साफ कर दिया है कि इसे लेकर ज्‍यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है. ये केवल मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए उठाया गया अंतरिम कदम हैं. चीजें सामान्‍य होने के बाद फिर से पूराने नियम ही अमल में लाए जाएंगे.Also Read - Haryana में छूट के साथ 10 फरवरी तक बढ़ाई गईं कोरोना पाबंदियां, अब इस समय तक खुल सकेंगी दुकानें

कोरोनावायरस के संक्रमण के खतरे को न्यूनतम करने के लिए कुंबले की अगुआई वाली समिति ने लार के इस्तेमाल को प्रतिबंधित करने की सिफारिश की है. आईसीसी ने शुक्रवार को क्रिकेट दोबारा शुरू करने के अपने दिशानिर्देशों में भी इसे प्रतिबंधित करने का सुझाव दिया. Also Read - Maharashtra News: महाराष्ट्र में कब खुलेंगे पर्यटन स्थल? मंत्री आदित्य ठाकरे ने दिया बड़ा अपडेट

कुंबले (Anil Kumble) ने स्टार स्पोर्ट्स के शो ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ से कहा, ‘‘यह सिर्फ अंतरिम उपाय है और उम्मीद करते हैं कि कुछ महीनों या एक साल में चीजें नियंत्रित होंगी और मुझे लगता है कि चीजें पहले की तरह सामान्य होंगी. ’’ Also Read - अच्छी खबर! दिल्ली में बीते दो हफ्तों में कोविड के एक्टिव मरीजों की संख्या में 50% से ज्यादा की कमी, बीते 24 घंटे में 7498 नए केस

लार पर प्रतिबंध को लेकर गेंदबाजों ने मिश्रित प्रतिक्रिया दी है जिनका कहना है कि इससे निश्चित तौर पर स्विंग हासिल करने पर असर पड़ेगा लेकिन अधिकांश ने इससे इस्तेमाल से होने वाले संभावित स्वास्थ्य जोखिम को स्वीकार किया है.

इस तरह की भी चर्चा है कि आईसीसी को गेंद को चमकाने के लिए ‘वैक्स’ जैसे तत्वों के इस्तेमाल की स्वीकृति देनी चाहिए या नहीं. अनिल कुंबले (Anil Kumble) ने कहा कि बाहरी पदार्थों के इस्तेमाल को लेकर चर्चा हुई थी. ‘अगर आप खेल के इतिहास को देखो, मेरे कहने का मतलब है कि हम काफी आलोचनात्मक रहे हैं और बाहरी पदार्थों को खेल में आने से रोकने पर हमारा काफी ध्यान रहा है.’’

‘‘अगर आप इसे वैध करने जा रहे हैं, अगर आप अब ऐसा कुछ करने जा रहे हैं जिसका कुछ वर्षों पहले गहरा असर रहा है.’’  कुंबले ने कहा, ‘‘दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच सीरीज के दौरान जो हुआ उस पर आईसीसी ने फैसला किया लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इससे भी कड़ा रुख अपनाया इसलिए हमने इस पर भी विचार किया.’’