भारत के दिग्‍गज गेंदबाज और पूर्व कप्‍तान अनिल कुंबले का मानना है कि टेस्‍ट क्रिकेट में रविचंद्रन अश्विन भारत के सबसे आला स्पिन गेंदबाज है। विशाखापत्‍तनम टेस्‍ट में प्रदर्शन ने उनके उपर संदेह की कोई गुंजाइश नहीं छोड़ी है। उन्‍होंने यह साफ कर दिया है कि वो भारतीय टेस्‍ट टीम का अहम हिस्‍सा हैं।

विशाखापत्‍तनम टेस्‍ट के दौरान सुनील गावस्‍कर ने भी अश्विन को विंडीज दौरे के दौरान टेस्‍ट टीम के प्‍लेइंग इलेवन में नहीं लेने पर टीम मैनेजमेंट को आड़े हाथों लिया था। विशाखापत्‍तनम में अश्विन ने 189 रन देकर कुल आठ विकेट चटकाए। पहली पारी में उन्‍होंने सात विकेट हॉल अपने नाम किया था। इस शानदार प्रदर्शन के बल पर वो टेस्‍ट किकेट में सबसे तेज 350 विकेट लेने वाले खिलाड़ी बन गए हैं।

ढ़ें:- जसप्रीत बुमराह को लेकर नीता अंबानी का बड़ा बयान, कहा- तुम…

अनिल कुंबले ने क्रिकेट नेक्‍सट से बातचीत के दौरान कहा, “आप नहीं चाहेंगे की आपके सबसे आला दर्जे के स्पिनर के बारे में सीरीज या मैच से पहले यह चर्चा की जाए कि वो टीम का हिस्‍सा होंगे या नहीं। मेरी नजर में ऐसा होना काफी दुखद है, लेकिन उसने अपना क्‍लास दिखाया है। सबसे तेज 350 विकेट लेना बड़ी बात है।”

“अश्विन महज एक गेंदबाज ही नहीं बल्कि एक ऑलराउंडर भी है। अश्विन और जडेजा भारतीय टीम के स्पिन गेंदबाजी क्रम को पूरा करते हैं। दोनों बतौर बल्‍लेबाज भी अच्‍छा सहयोग देते हैं। दोनों ने निचले बल्‍लेबाजी क्रम में काफी अच्‍छा प्रदर्शन करके भी दिखाया है।”

पढ़ें:- डेयरी में काम किया, गोलगप्पे बेचे, टेंट में गुजारा बचपन, अब मचा रहा बैटिंग से कोहराम

पूर्व कप्‍तान ने कहा, “मुझे यह समझ नहीं आता आखिर क्‍यों इन दोनों के अलावा हम स्पिन गेंदबाजी में सोचने की सोचते हैं। अगर आपको तीसरे स्पिनर की जरूरत है तो कुलदीप यादव यह भूमिका निभा सकते हैं। पिछले कुछ महीनों से अश्विन ने कोई मैच नहीं खेला था, जिसके कारण उसके पास आत्‍मविश्‍वास की कुछ कमी जरूर थी। जिस गेंद पर अश्विन ने एडेन मार्करम को आउट किया था वो एक क्‍लासिकल ऑफ स्पिन थी।”