जब से टीम इंडिया का कोच पद पूर्व कप्तान और लेग स्पिनर अनिल कुंबले ने संभाला है, तब से हरदिन कुछ नया सुनने को मिल रहा है। कुंबले टीम की सफलता को लेकर खासे सजग नजर आ रहे हैं और लीक से हटकर कुछ करने से भी नहीं हिचकिचा रहे हैं। यही कारण कि अब उन्होंने टीम के सदस्यों को टेस्ट मैचों में सफलता का नया मंत्र दिया है। उनके अनुसार टीम को इस लंबे फॉर्मेट में सफल होने के लिए खेल को ‘उबाऊ’ बनाना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि हमें टेस्ट के लिए अपनी मानसिकता में भी बदलाव लाना होगा।Also Read - क्‍या विराट कोहली की वापसी के बाद होगी अजिंक्‍या रहाणे की विदाई ? कोच विक्रम राठौड़ ने दिया ये जवाब

Also Read - Ravichandran Ashwin का टेस्‍ट क्रिकेट में नया कीर्तिमान, हरभजन सिंह की बराबरी की

कुंबले ने कहा, ‘हम बल्लेबाज की मानसिकता छोटे फॉरमैट से पांच दिनी फॉरमैट पर लाने पर फोकस कर रहे हैं। लंबे समय तक बल्लेबाजी करना जरूरी है।’ भारतीय क्रिकेटरों ने आईपीएल खेलने के बाद जिम्बाब्वे का दौरा करके वनडे और टी-20 मैच ही खेले। यह भी पढ़े-कोहली के सामने होगी सही टीम संयोजन पाने की चुनौती Also Read - पूर्व भारतीय क्रिकेट का बड़ा खुलासा, जिंदगी भर 'रंगभेद' का सामना किया

Indian-test

गौरतलब है कि टीम इंडिया को गुरुवार से विंडीज के साथ 4 टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मैच एंटीगा में खेलना है और कोच कुंबले विदेशी धरती पर जीत के लिए हरसंभव कोशिश कर रहे हैं।  कुंबले ने कहा कि वेस्टइंडीज की धीमी विकेटों पर तेज गेंदबाजों और स्पिनरों को मिलकर अच्छा प्रदर्शन करना होगा। उन्होंने बल्लेबाजों के लिए भी उपाय सुझाया। उनके अनुसार बल्लेबाजों को लंबे समय तक बल्लेबाजी करनी होगी।

कोच ने बल्लेबाजी की तरह गेंदबाजी में भी साझेदारी पर जोर दिया और कहा कि दबाव बनाने के लिए गेंदबाजों का पेयर में प्रदर्शन करना जरूरी है। वहीं स्पिनर भी अहम होंगे। बताना चाहेंगे कि टेस्ट क्रिकेट में 619 विकेट ले चुके कुंबले ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट किसी भी क्रिकेटर की असल परीक्षा है। उन्होंने कहा, ‘टेस्ट क्रिकेट में तीनों विभागों की परीक्षा होती है लिहाजा फोकस तीनों पर रहता है।