पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में उनके खिलाफ शुरू हुई अवमानना कार्यवाही के मामले में बिना शर्त माफी मांगी। मामले की अगली सुनवाई 17 अप्रैल को होगी। कोर्ट ने ठाकुर को मामले की अगली सुनवाई तक व्यक्तिगत रूप से कोर्ट में हाजिर होने से राहत दे दी है।

इसके अलावा झूठी गवाही से जुड़े एक अन्य मामले में भी ठाकुर ने माफी मांगी। सुप्रीम कोर्ट द्वारा प्रथम दृष्टया झूठी गवाही के लिए नोटिस जारी किए जाने के बाद ठाकुर ने बिना शर्त माफी मांगी।

इस साल 2 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने लोढ़ा कमिटी की सिफारिशों को लागू न करने के लिए कड़ा कदम उठाते हुए बीसीसीआई में सुधार लाने की दिशा में कोर्ट की कोशिशों में ‘बाधा डालने’ के प्रयासों के तहत ठाकुर को अध्यक्ष पद और अजय शिर्के को सचिव पद से हटा दिया था।

इसके बाद कोर्ट ने बीसीसीआई के संचालन और लोढ़ा कमिटी की सिफारिशों को लागू करने के लिए एक चार सदस्यीय कमिटी (कमिटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन, सीओए) का गठन किया था।