कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते लगभग 2 महीने से क्रिकेट की सभी गतिविधियां ठप्प है. अब कई क्रिकेट सदस्य देश कोरोनावायरस को रोकने के लिए लगाई गई पाबंदियों में ढील दे रहे हैं तब इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने दुनिया भर में क्रिकेट की बहाली के लिए व्यापक दिशानिर्देश जारी किए हैं और साथ ही उच्च सुरक्षा प्रोटोकॉल बनाए रखने पर भी ध्यान दिया. Also Read - Coronavirus Delhi latest Update: दिल्ली में कोरोना का विस्फोट, एक दिन में 1500 से अधिक नए मामले, सरकार ने समिति का किया गठन

14 दिन तक अलग थलक अभ्यास शिविर Also Read - कोरोना: भारत में एक दिन में सामने आए रिकॉर्ड मामले, संक्रमितों की संख्या 2 लाख सात हज़ार पार

आईसीसी ने शुक्रवार को कोरोना वायरस संकट के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट की बहाली के लिए दिशानिर्देशों की सिफारिश की जिसमें मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) की नियुक्ति, मैच से पहले 14 दिन तक अलग थलग अभ्यास शिविर और गेंद रखते समय अंपायरों का दस्तानों का उपयोग करना शामिल है. Also Read - कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने में मदद करेगी गुजरात कोविड म्यूटेशन अध्ययन, जानिए क्या है एक्सपर्ट की राय 

इन दिशानिर्देशों में आईसीसी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी या जैव सुरक्षा अधिकारी की नियुक्ति करने की सिफारिश की जो कि अभ्यास पर लौटने वाले खिलाड़ियों के लिए संबंधित सरकारी दिशानिर्देशों को सुनिश्चित करेगा.

क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था ने मैच से पूर्व अलग थलग अभ्यास शिविर का आयोजन करने की भी सिफारिश की है जिसमें तापमान की जांच और यात्रा पर जाने से कम से कम 14 दिन पहले कोविड-19 का परीक्षण शामिल है.

आईसीसी ने कहा, ‘मुख्य चिकित्सा अधिकारी या जैव सुरक्षा अधिकारी की नियुक्ति पर विचार करें जो सरकारी दिशानिर्देशों तथा अभ्यास और प्रतियोगिता की बहाली के लिये जैव सुरक्षा योजना लागू करने के लिए जिम्मेदार होगा.’

इसके दिशानिर्देशों में कहा गया है, ‘मैच से पूर्व अलग-थलग अभ्यास शिविर के आयोजन, स्वास्थ्य, तापमान जांच और कोविड-19 परीक्षण की जरूरत पर विचार करें. यात्रा से कम से कम 14 दिन पहले सुनिश्चित करें कि टीम कोविड-19 से मुक्त है.’

अब अंपायर को नहीं सौंप सकते कैप 

इनमें कहा गया है खिलाड़ियों को कैप, तौलिया, जंपर्स आदि को ओवरों के बीच में अंपायरों को नहीं सौंपना चाहिए. इसके साथ ही अंपायरों को भी गेंद अपने पास रखते समय दस्तानों का उपयोग करना पड़ सकता है.

आईसीसी ने अपनी विज्ञप्ति में कहा है कि वह केवल व्यावहारिक सुझावों का खाका उपलब्ध कराना चाहता कि महामारी कम होने के बाद सदस्य देश कैसे क्रिकेट शुरू कर सकते हैं.

आईसीसी ने अपने सदस्यों से क्रिकेट गतिविधियों की वापसी के लिये संबंधित सरकारों से मिलकर काम करने को भी कहा. उसने संबंधित बोर्ड को क्रिकेटरों को सुरक्षित कार्यस्थल उपलब्ध कराने के लिए कहा है.

डेढ़ मीटर की दूरी बनाए रखनी होगी 

विश्व संस्था ने खिलाड़ियों के बीच हमेशा डेढ़ मीटर (या जो भी संबंधित सरकारों ने तय किया हो) की दूरी बनाए रखने और निजी सामान की लगातार सफाई की सिफारिश की है.

जहां तक गेंदबाजों का सवाल है तो शीर्ष संस्था ने उनके कार्यभार और चोट की संभावना को देखते हुए विशेष दिशानिर्देश जारी किए हैं. इन सिफारिशों में कार्यभार कम करने के लिए टीम में अधिक खिलाड़ियों को रखना भी शामिल है.

क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था ने अभ्यास और प्रतियोगिता के दौरान उचित परीक्षण योजना तैयार करने की सिफारिश भी की. दुनिया में महामारी फैलने के बाद से ही क्रिकेट गतिविधियां बंद है. इस बीमारी के कारण आगामी टी20 विश्व कप पर भी खतरे के बादल मंडरा रहे हैं.