इंग्लैंड वनडे टीम के कप्तान इयोन मोर्गन (Eoin Morgan) ने खुलासा किया है कि इंग्लिश खिलाड़ियों का आईपीएल 2019 (IPL 2019) में हिस्सा लेने विश्व कप से जुड़ी सोची समझी योजना का हिस्सा था। Also Read - 'धोनी ने मुझे कहा था, टीम के सबसे तेज धावक को हराते रहने तक खेलना जारी रखेंगे'

मोर्गन ने कहा कि उन्होंने इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) की क्रिकेट समिति के अध्यक्ष एंड्रयू स्ट्रॉस से ये फैसला करने की गुजारिश की थी क्योंकि उनका मानना था कि वैश्विक प्रतियोगिता में होने वाले दबाव की बराबरी सिर्फ आईपीएल से ही की जा सकती है। Also Read - IPL 2020: बीसीसीआई का दावा, यूएई में आईपीएल कराने की ‘सैद्धांतिक’ मंजूरी मिली

मोर्गन ने ‘क्रिकबज इन कंवर्सेशन’ पर हर्षा भोगले को कहा, ‘‘आईपीएल में खेलना स्ट्रॉस की योजना का हिस्सा था। मैंने उनसे ये फैसला करने का आग्रह किया था क्योंकि अंतरराष्ट्रीय बाईलैटरल सीरीज, चैंपियंस ट्रॉफी या विश्व कप के दबाव को दोहराना मुश्किल है।’’ Also Read - IPL 2020: बिना परिवार के यूएई रवाना होंगे एमएस धोनी के चेन्नई सुपर किंग्स

उन्होंने कहा, ‘‘उसने मेरे से पूछा कि इसमें अलग क्या है। एक तो आप विदेशी खिलाड़ी के रूप में खेलते हो तो आप से काफी अपेक्षाएं होती हैं। अगर आप आईपीएल में खेलते हैं तो वहां अलग तरह का दबाव और अलग तरह की उम्मीदें होती हैं। कभी कभी आप इससे बच नहीं सकते और आपको इससे निपटने का तरीका ढूंढना होता है।’’

इंग्लैंड ने पिछले साल घरेलू सरजमीं पर न्यूजीलैंड को हराकर अपना पहला विश्व कप खिताब जीता था। मोर्गन ने कहा कि आईपीएल खिलाड़ियों को उनकी सहज स्थिति से बाहर निकलकर प्रदर्शन करने में मदद करता है।