मेलबर्न: बुधवार को मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीसरा टेस्ट मैच शुरू हुआ तो एक खिलाड़ी पर सबकी निगाहें टिकी हुई थीं. टॉस से पहले ऑस्ट्रेलिया की टीम मीटिंग में वो शामिल था. टॉस के दौरान भी वह बैगी ग्रीन पहने कप्तान के साथ था. और तो और, कमेंट्री बॉक्स में भी वह नजर आया, लेकिन मुकाबला शुरू होने के बाद मैदान से नदारद रहा. यदि इन बातों से आपकी जिज्ञासा नहीं जगी हो तो हम यह भी आपको बता दें कि इस मैच के लिए वह ऑस्ट्रेलियाई टीम का सह-कप्तान भी था.

अब आप सोच रहे होंगे कि मैदान पर तो ऑस्ट्रेलिया के सभी खिलाड़ी मौजूद थे, फिर ये बारहवां खिलाड़ी कौन है. आपकी मुश्किल हम हल किए देते हैं. दरअसल, यह खिलाड़ी और कोई नहीं बल्कि आर्ची शिलर है जिसे इस मुकाबले के लिए टीम का सह-कप्तान बनाया गया था.

बॉक्सिंग डे टेस्ट: ऑस्ट्रेलिया ने ‘7 साल’ के खिलाड़ी को बनाया उप कप्तान, भारत के खिलाफ खेलेगा मैच

सात साल का शिलर इस छोटी उम्र में ही कई मुश्किलें झेल चुका है. उसके समस्याओं की शुरुआत तभी हो गई थी जब वह तीन महीने का था. उसकी सर्जरी हुई जो सात घंटे तक चली. शिलर जब छह महीने का था, तब उसे फिर से दिल के वॉल्व और धड़कन में समस्या आई. पिछले साल दिसंबर में जब यही समस्या फिर से हुई तो उसकी तीसरी बार ओपन हार्ट सर्जरी करनी पड़ी. उसकी हालत ऐसी थी कि परिवार हर समय अनहोनी की आशंका से डरा रहता था. इसी दौरान उसने पिता को बताया कि वह ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम का कप्तान बनना चाहता है.

स्ट्रेट ड्राइव: आधे मैचों में 5 ओवर भी नहीं टिकते ओपनर्स, क्या टीम इंडिया को विदेश में है स्पेशलिस्ट की जरूरत?

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को जब इसका पता चला तो मेक ए विश अभियान के तहत एक मैच के लिए शिलर को टीम में शामिल किया गया. मैच शुरू होने से पहले बकायदा टीम मीटिंग हुई जिसमें अपने फेवरिट प्लेयर के हाथों शिलर को बैगी ग्रीन सौंपी गई. उसे टीम का सह-कप्तान बनाया गया, इसलिए टॉस के दौरान भी वह कप्तान टिम पेन के साथ मौजूद था. बाद में वह मार्क वॉ और माइकल हसी के साथ कमेंट्री बॉक्स में भी नजर आया.