नई दिल्ली। भारतीय टीम के खिलाड़ियों की सूची में अब फिर ‘तेंदुलकर ’ उपनाम शामिल हो जाएगा क्योंकि सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन को श्रीलंका के खिलाफ चार दिवसीय दो मुकाबलों के लिए अंडर-19 टीम में शामिल किया गया है. 18 साल के अर्जुन बायें हाथ का तेज गेंदबाज है और निचले मध्यक्रम में उपयोगी बल्लेबाज भी है. उसकी लंबाई छह फीट एक इंच है.

अर्जुन का चयन चारदिवसीय मैचों के लिए

बेंगलुरू में गुरुवार को भारत अंडर -19 की दो टीमें घोषित की गई जिनकी अगुवाई अनुज रावत और आर्यन जुयाल करेंगे. यह चयन बैठक दिलचस्प बन गई क्योंकि आशीष कपूर, ज्ञानेंद्र पांडे और राकेश पारिख की तीन सदस्यीय चयन समिति ने जूनियर तेंदुलकर को लंबे प्रारूप के लिए चुना.

सचिन के बेटे अर्जुन तेंदुलकर ने की 130 किमी. की स्पीड से गेंदबाजी

अर्जुन के कूच बेहार ट्राफी (राष्ट्रीय अंडर -19) के पांच मैचों में 18 विकेट हैं और वह सत्र में विकेट चटकाने वाले गेंदबाजों की सूची में 43 वें स्थान पर हैं. उसने मध्य प्रदेश के खिलाफ पांच विकेट (95 रन देकर पांच विकेट) चटकाए थे. दिलचस्प बात है कि हिमाचल प्रदेश के आयुष जामवाल (50 विकेट) को किसी भी टीम में जगह नहीं दी गयी है क्योंकि अब उनकी उम्र अधिक हो गई है.

अर्जुन के चयन पर पिता सचिन तेंदुलकर ने भी खुशी जाहिर की है.

अर्जुन हैं ऑलराउंडर 

इससे पहले पिछले साल अर्जुन तेंदुलकर को मुंबई की अंडर-19 टीम के लिए चयनित किया गया था. अर्जुन मुंबई की अंडर-14 और अंडर-16 टीमों के लिए खेल चुके हैं. महान बल्लेबाज रहे अपने पिता से उलट अर्जुन बाएं हाथ के ऑलराउंडर हैं जिन्हें बाएं हाथ की उनकी तेज गेंदबाजी के लिए जाना जाता है. अर्जुन उस समय सुर्खियों में थे जब उनकी तेज गेंदबाजी के सामने जून में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले अभ्यास के दौरान इंग्लैंड के बल्लेबाज जॉनी बेयरोस्टो चोट लगने पर दर्द से कराहते हुए नजर आए थे.