नई दिल्ली। इंडियन क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज आशीष नेहरा बुधवार को अपना आखिरी मैच खेलकर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह देेंगे. भारत बुधवार को तीन टी-20 मैचों की सीरीज के पहले मैच में न्यूजीलैंड से भिड़ेगा. भारतीय टीम नेहरा को जीत के साथ विदाई देने की कोशिश करेगी. अपने करियर में क्रिकेट के सफलतम खिलाड़ियों के साथ खेल चुके नेहरा ने दो खिलाड़ियों के नाम बताए हैं जिन्हें वे क्रिकेट की समझ के मामले में जीनियस मानते हैं.

नेहरा ने बताया कि मेरी नजर में अजय जडेजा और महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट की समझ के मामले में जीनियस हैं. उन्होंने कहा कि मेरे लिए धोनी और जडेजा क्रिकेट की दुनिया में सबसे तेज दिमाग वाले खिलाड़ी हैं.

गौरतलब है कि अपने बीस साल के कैरियर में 163 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके नेहरा ने 12 बार ऑपरेशन के बावजूद ऊर्जा नहीं खोई. अपने आखिरी प्रतिस्पर्धी मैच से नेहरा ने कहा कि मेरे 20 साल काफी रोमांचक रहे हैं. मैं बहुत जज्बाती नहीं हूं. अगले 20 साल का मुझे इंतजार है. उम्मीद है कि यह भी उतने ही रोमांचक होंगे जितने पिछले 20 साल रहे हैं जब मैने 1997 में दिल्ली के लिए खेलना शुरू किया था.

उन्होंने कहा यह सफर शानदार रहा. एक ही मलाल रहा. अगर मुझे इन 20 साल में कुछ बदलना हो तो जोहानिसबर्ग में 2003 विश्व कप फाइनल का दिन लेकिन यह सब किस्मत की बात है. 

मयंती लैंगर ने सुरेश रैना से मांगा Wi-fi पासवर्ड, फैंस ने दिए मजेदार जवाब

मयंती लैंगर ने सुरेश रैना से मांगा Wi-fi पासवर्ड, फैंस ने दिए मजेदार जवाब

दिल्ली के सोनेट क्लब से सफर का आगाज करते वाले नेहरा ने कहा कि कोटला पर मेरे पहले रणजी मैच में दिल्ली टीम में दिवंगत रमन लांबा, अजय शर्मा, अतुल वासन और रॉबिन सिंह जूनियर थे. रमन भैया और अजय भैया को देखकर मैने गेंदबाजी सीखी थी. मैं अपने पहले रणजी मैच में तीसरे गेंदबाज के रूप में उतरा और दोनों पारियों में अजय जडेजा को शून्य पर आउट किया था.

यह पूछने पर कि क्या वह भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच बनना चाहेंगे, उन्होंने कहा कि अभी कोई इरादा नहीं है. कोचिंग और कमेंट्री करना चाहूंगा लेकिन भारतीय टीम की बात कर रहे हैं तो 2019 विश्व कप तक तो ऐसा कोई इरादा नहीं. फिर देखते हैं कि क्या होता है.

भाषा इनपुट