विराट कोहली की अगुआई में भारतीय क्रिकेट टीम ने हाल के वर्षों में कई उपलब्धियां हासिल की है. कोहली के नेतृत्व में भारत ने 2018-19 में ऑस्ट्रेलिया में 71 साल में पहली बार टेस्ट सीरीज जीती थी. भारत ने साल की शुरुआत में न्यूजीलैंड दौरे पर मेजबान टीम को टी-20 सीरीज में 5-0 से सफाया किया था. ऐसा पहली बार किसी टीम ने 5 मैचों की टी-20 सीरीज में किया था. इसके बावजूद भारतीय टीम के पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा का कहना है कि कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया की 2000 दशक की टीम के बराबर नहीं कहा जा सकता है, इसके लिए उसे अब भी लंबा रास्ता तय करना होगा. Also Read - थूक के इस्‍तेमाल पर रोक से बिगड़ेगा गेंद-बल्‍ले का संतुलन, अनिल कुंबले का सुझाव, पिच में हो बदलाव

नेहरा ने पूर्व खिलाड़ी आकाश चोपड़ा के शो ‘आकाशवाणी’ पर कहा, ‘इस भारतीय टीम को उस ऑस्ट्रेलियाई टीम (स्टीव वॉ और फिर रिकी पोंटिंग की कप्तानी वाली) की बराबरी करने के लिए काफी दूरी तय करनी होगी.’ Also Read - चहल पर आपत्तिजनक टिप्‍पणी के इस्‍तेमाल के मामले में युवराज सिंह के खिलाफ शिकायत दर्ज, पुलिस ने...

‘पांच नंबर पर खेलने वाले केएल राहुल, धोनी के उत्तराधिकारी रिषभ पंत पर पड़ रहे हैं भारी’ Also Read - यौन उत्‍पीड़न के मामले में भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी को कोच पद से किया गया बर्खास्‍त

बकौल नेहरा, ‘आप ऑस्ट्रेलियाई टीम के बारे में बात कर रहे हो जिसने लगातार तीन विश्व कप जीते थे और फिर 1996 के फाइनल में पहुंची थी, उसने घरेलू और विदेशी सरजमीं पर 18-19 टेस्ट मैच जीते थे.’

वह हालांकि टीम संयोजन से बार-बार छेड़छाड़ किए जाने से भी खुश नहीं थे.

उन्होंने कहा, ‘ऐसा नहीं है कि यह भारतीय टीम वहां तक नहीं पहुंच सकती लेकिन मेरा मानना है कि कोर ग्रुप बहुत अहम है. कोई भी आदमी अगर टेबल पर बहुत सारे पकवान देखेगा तो वह असमंजस में पड़ जाएगा इसलिए सबसे महत्वपूर्ण चीज है कम लेकिन बेहतर पकवान होना.’

‘अगर विराट कोहली को पसंद करते हैं तो एक बार बाबर आजम को बल्लेबाजी करते देखें’

गौरतलब है कि हाल में नेहरा ने अपने टेस्ट डेब्यू मैच को लेकर खुलासा किया था कि उनके पास उस मैच में पहनने के लिए सिर्फ एक जोड़ी जूता था जो जिसे उन्होंने प्रत्येक पारी के बाद टांके लगवाकर पहने थे.