भारतीय टीम (Team India) के पूर्व तेज गेंदबाज आशीष नेहरा (Ashish Nehra) का मानना है कि हमें जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) पर जरूरत से ज्‍यादा निर्भरता को कम करना ही होगा. टीम इंडिया को तेज गेंदबाजी में अन्‍य विकल्‍पों पर काम करने की खासी जरूरत है.Also Read - Highlights RCB vs MI, IPL 2021: हर्षल पटेल की हैट्रिक से जीता बैंगलोर, 7वें स्‍थान पर खिसका मुंबई

न्‍यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज के दौरान जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) तीन मैचों में एक भी विकेट नहीं निकाल पाए, जिसके चलते उनकी खासी आलोचना हो रही है. Also Read - IPL 2021: प्लेऑफ में क्वॉलीफाई करने के बाद नंबर 4 पर खेलें MS Dhoni: Gautam Gambhir

पढ़ें:- राहुल की शानदार फॉर्म को देख धवन बोले-केएल 12वें नंबर पर भी उतरकर सेंचुरी जड़ सकते हैं Also Read - ऑस्ट्रेलिया दौरे पर जाने पर अनुभवी तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह से भी काफी कुछ सीखने को मिला: कार्तिक त्यागी

आशीष नेहरा ने कहा, “आप हर सीरीज में जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) से अच्‍छे प्रदर्शन की उम्‍मीद नहीं कर सकते हो. हर किसी को यह ध्‍यान रखना होगा कि उसने इंजरी के बाद टीम में वापसी की है. हर किसी के लिए हर वक्‍त अपनी बेस्‍ट फॉर्म दिखा पाना संभव नहीं है. यहां तक की विराट कोहली (Virat Kohli) के साथ भी ऐसा कई सीरीज में हो चुका है.”

आशीष नेहरा ने कहा, “डेथ ओवर्स में लेंथ गेंद कराना कोई अपराध नहीं है. लगातार यार्कर करा पाना भी इतना आसान नहीं होता. अगर आपके पास गति है तो आप उसमें परिवर्तन करते हुए लेंथ के साथ खेल सकते हैं.”

“टीम मैनेजमेंट को अपनी तेज बैट्री को अच्‍छे से मैनेज करना होगा. जसप्रीत बुमराह और मोहम्‍मद शमी के अलावा अन्‍य गेंदबाजों को भी उनकी भूमिका का पता होना चाहिए. बुमराह पर कुछ ज्‍यादा ही दबाव डाला जा रहा है. टीम चयन के दौरान निरंतरता की खासी कमी साफ देखी जा सकती है.”

पढ़ें:- तेंदुलकर ने 16 वर्षीय ओपनर शेफाली से कहा-अपने सपनों की पीछा करते रहो क्योंकि…

नवदीप सैनी को टेस्‍ट में मौका देने की वकालत करते हुए आशीष नेहरा ने कहा, “मौजूदा समय में मोहम्‍मद शमी हमारा सर्वश्रेष्‍ठ टेस्‍ट गेंदबाज है. वो कंडीशन और पिच पर ज्‍यादा निर्भर नहीं है. हमारे लिए उमेश यादव की जगह नवदीप सैनी को टेस्‍ट के लिए तैयार करने से ज्‍यादा फायदा होगा. टीम के साथ उसका अच्‍छा तालमेल है. सैनी अधिकांश समय बैक ऑफ लेंथ डिलीवरी पर ही निर्भर रहता है. अगर वो इसी गति के साथ थोड़ा फुल लेंथ की गेंद डालना शुरू कर दे तो उसे स्‍टेंप के पीछे विकेट निकालने के ज्‍यादा मौके मिल पाएंगे.”