नई दिल्ली. एशिया कप 2018 का फाइनल मुकाबला भारत ने जीत लिया है. भारत ने बांग्लादेश को फाइनल मुकाबले में 3 विकेट से हराया. लेकिन, क्या आप जानते हैं कि टीम इंडिया की जीत  ये राह मुश्किल हो सकती थी अगर धोनी ने बिजली की तेजी से बांग्लादेश के खिलाफ बाजी न पलटी होती. जी हां, हम बात कर रहे हैं बांग्लादेश के स्कोर की, जो अच्छी शुरुआत के बावजूद बड़े स्कोर तक नहीं पहुंच सके. फाइनल मुकाबले में बांग्लादेश अगर 222 रन पर ही सिमट गया तो इसके पीछे एक बड़ी वजह महेन्द्र सिंह धोनी रहे.

बिजली से भी तेज धोनी

धोनी ने बिजली की तेजी से बांग्लादेश के खिलाफ बाजी पलट दी. उन्होंने शतकवीर लिट्टन दास और बांग्लादेश के कप्तान मशरफे मुर्तजा को स्टंप आउट किया. अब इस स्टंपिंग के पीछे धोनी की फुर्ती देखिए. धोनी ने दास को स्टंप करने के लिए बस 16 सेकेंड का वक्त लिया जबकि मशरफे को 20 सेकेंड में चलता किया.

इंटरनेशनल क्रिकेट में 800 शिकार

बांग्लादेश पर इस बिजली को गिराने के साथ ही धोनी के इंटरनेशनल क्रिकेट में विकेट के पीछे 800 शिकार भी पूरे हो गए हैं. वह ये कारनामा करने वाले एशिया के पहले और वर्ल्ड के तीसरे विकेटकीपर हैं. धोनी से आगे मार्क बाउचर (998) और एडम गिलक्रिस्ट (905) हैं.

संगकारा का रिकॉर्ड तोड़ा

इंटरनेशनल क्रिकेट में धोनी की सबसे ज्यादा 184 स्टंपिंग्स तो हैं ही साथ ही एशिया कप के वनडे फॉर्मेट की बात करें तो धोनी के नाम सबसे ज्यादा 10 स्टंपिंग्स हो गई हैं. उन्होंने इस मामले में  श्रीलंका के कुमार संगकारा को पछाड़ दिया है, जिनके नाम इस टूर्नामेंट में 9 स्टंपिंग्स थी. एशिया कप में विकेट के पीछे शिकार की बात करें तो धोनी ने 36 बल्लेबाजों को आउट किया है. धोनी ने कुमार संगकारा की बराबरी कर ली है.