नई दिल्ली. एशिया कप 2018 का फाइनल का गणित पहली नजर में कहता है कि जीत टीम इंडिया की होगी. लेकिन, बांग्लादेश का सवाल जितना आसान नजर आता है दरअसल उतना है नहीं. ऐसे में रोहित एंड कंपनी इस सवाल को हल्के में नहीं लेने वाली. भारत की नजर 7वें एशिया कप खिताब पर कब्जा जमाने पर है और ऐसा करने के लिए उसने 5 फॉर्मले ढूंढ़े हैं जो आज के मुकाबले में उसका काम आसान करते हुए बांग्लादेश की हार तय कर सकते हैं. Also Read - भारत-बांग्लादेश के पहले Day-Night टेस्ट मैच को मिले रिकॉर्ड दर्शक, आंकड़े जारी

जीत का फॉर्मूला नंबर 1 Also Read - सचिन ने आज ही के दिन जड़ा था 100वां शतक, लेकिन मायूस हो गए थे क्रिकेट फैंस

भारत अगर पहले बल्लेबाजी करता है और फाइनल में 270+ का स्कोर खड़ा करता है तो उसका जीतना लगभग तय हो जाएगा क्योंकि ऐसा पहले 75 फीसदी मैचों में हो चुका है. Also Read - U19 विश्व कप फाइनल में हुई झड़प पर बांग्लादेशी गेंदबाज का बयान- भारत को हार का एहसास दिलाना चाहते थे

जीत का फॉर्मूला नंबर 2

भारतीय ओपनर्स अगर 100 या उससे ज्यादा रन की साझेदारी करते हैं तो भारत को 75 फीसदी फाइनल में जीत मिली है. और, जिस तरह से रोहित शर्मा और शिखर धवन का बल्ला टूर्नामेंट में बोल रहा है ये काम नामुमकिन भी नहीं लग रहा.

टीम इंडिया को हराने के लिए बांग्लादेश को बदलना होगा अपना इतिहास

जीत का फॉर्मूला नंबर 3

भारत को एशिया कप 2018 का फाइनल जीतने के लिए तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को 3 या उससे ज्यादा विकेट लेने होंगे. वनडे मुकाबले में वो जब भी ऐसा करते हैं भारत 85 फीसदी मैच जीतता है.

जीत का फॉर्मूला नंबर 4

भारत के फाइनल जीतने का एक फॉर्मला ये है कि रोहित शर्मा या शिखर धवन में से कोई एक या दोनों शतक ठोकें. रोहित शतक जड़ते हैं तो भारत 75 फीसदी मैच जीतता है और अगर धवन शतक ठोकते हैं तो भारत को 80 फीसदी मुकाबलों में जीत मिली है.

जीत का फॉर्मूला नंबर 5

पिछले 2 साल में भारत ने अपने 77 फीसदी वनडे मैच लक्ष्य का पीछा करते हुए जीते हैं. अगर इस आधार पर जाएं तो कप्तान रोहित को टॉस जीतकर गेंदबाजी चुननी चाहिए.