नई दिल्ली. वो कहावत तो आपने सुनी ही होगी. लोहा ही लोहे को काटता है. यही बात आज के मुकाबले में भारत-पाकिस्तान महामुकाबले पर भी लागू होने वाली है. इस मुकाबले में भारत पाकिस्तान को उसी की भाषा में समझाता नजर आएगा. उसे उसी की ताकत से हराता दिखेगा. क्योंकि, अब टीम इंडिया ने भी ढूढ़ लिया है बाएं हाथ का ब्रम्हास्त्र.

पाकिस्तान के ‘बाएं हाथ’ वाले गेंदबाज

हम ऐसा क्यों कह रहे हैं अब जरा वो समझिए. दरअसल, पाकिस्तान की ताकत हैं उसके बाएं हाथ वाले गेंदबाज. उसके ज्यादातर तेज गेंदबाज बाएं हाथ वाले हैं फिर चाहे वो पाकिस्तानी पेस अटैक के लीडर मोहम्मद आमिर हों, भारत के खिलाफ 5 विकेट लेने का दम भरने वाले उस्मान खान हों, युवा शाहिन अफरीदी हों या फिर जुनैद खान. ये सभी बाएं हाथ से आज भारतीय बल्लेबाजों पर अटैक करते दिखेंगे.

भारत को मिला ‘ब्रम्हास्त्र’

लेकिन, पाकिस्तान के इस बाएं हाथ की गेंदबाजी पलटन को जवाब देने के लिए अब भारत को उसका बाएं हाथ का तेज गेंदबाज मिल गया है. भारत के इस बाएं हाथ वाले ब्रम्हास्त्र यानी कि तेज गेंदबाज का नाम है खलील अहमद.

भारत के खिलाफ मैच से पहले मोहम्मद आमिर ने बढ़ाई अपनी टीम की मुश्किलें, टेंशन में पाकिस्तान के कप्तान

डेब्यू में दिखाया ट्रेलर

खलील ने एशिया कप के पहले मैच में हांगकांग के खिलाफ वनडे डेब्यू किया और अपने वनडे करियर के पहले ही मैच में उन्होंने बेजोड़ छाप छोड़ी. इस मैच में खलील ने 10 ओवर की गेंदबाजी में 48 रन देकर 3 विकेट लिए और भारत के सबसे सफल गेंदबाज रहे. इस दौरान उनकी इकॉनोमी 4.80 की रही जो कि मोस्ट इकॉनोमिकल बॉलर में शुमार किए जाने वाले अनुभवी भुवनेश्वर कुमार से कहीं बेहतर रही.

टीम इंडिया से नाराज हुए पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद, मैच से पहले उठाए सवाल

पाकिस्तान खिलाफ फिल्म दिखेगी!

हांगकांग को हराने के बाद खलील का अगला टारगेट अब पाकिस्तान के खिलाफ टीम इंडिया का काम आसान करना है. अगर उन्हें आज प्लेइंग इलेवन में मौका मिलता है, जिसकी पूरी उम्मीद भी है, तो इस बात की पूरी गारंटी है कि वे पाकिस्तान के खिलाफ रोहित की तरकस का सबसे अहम हथियार साबित हो सकते हैं.