भारतीय हॉकी टीम ने भारत को दिवाली का शानदार तोहफा दिया है। टीम ने एशियन चैंपियन्स ट्रोफी में शानदार खेल दिखाते हुए पाकिस्तान को 3-2 से हराकर चैंपियन्स ट्रोफी का खिताब जीत लिया है। ख़ास बात ये है कि भारत की टीम इस मैच में कैप्टन श्रीजेश के बिना खेल रही थी, श्रीजेश की जगह आकाश चिकते ने गोलकीपिंग की। भारत के लिए रूपिंदर सिंह, अफान यूसुफ और निकम ने एक-एक गोल किए। पाकिस्तान ने भी भारत पर दो गोल किए, लेकिन पाक टीम इसके बाद भारत पर कोई गोल नहीं कर सकी। Also Read - ' 314 इंटरनेशनल मैच खेलने के बावजूद ओलंपिक में पदक नहीं जीत पाने का हमेशा रहेगा मलाल'

मलेशिया के कुआंटान में खेले गए हॉकी के एशियन चैंपियन्स ट्रोफी के खिताबी मुकाबले में शानदार खेल दिखाया। भारत और पाकिस्तान की टीमों ने शानदार पास दिखाए और पाकिस्तान की टीम ने कुछ मौकों पर अच्छे स्कूप शॉट भी दिखाए। मैच के पहले क्वॉर्टर में दोनों ही टीमें कोई गोल नहीं कर पाईं। 0-0 के स्कोर पर दूसरे क्वॉर्टर में आईं दोनों टीमों ने एक बार फिर आक्रामक खेल खेला। लेकिन गोल करने के मामले में भारतीय टीम आगे रही। इसके बाद धीरे-धीरे भारत ने खेल में अपनी पकड़ बना ली।

23वें मिनट में अफान यूसुफ ने शानदार गोल दागकर भारत को मैच में 2-0 से आगे कर दिया। फिर मैच के 26वें मिनट में पाकिस्तान को पेनल्टी कॉर्नर मिला और अलीम बिलाल ने गोल कर स्कोर को 2-1 कर दिया। बिलाल के इस शॉट को गोलकीपर आकाश चिकते इस बार रोक नहीं पाए।

भारत को जब 19वें मिनट में दूसरा पेनल्टी कॉर्नर मिला, तो इस बार रूपिंदर सिंह ने बॉल को गोल पोस्ट में पहुंचा दिया। इसके चार मिनट बाद यानी 23वें मिनट में अफान यूसुफ ने शानदार गोल दागकर भारत को मैच में 2-0 से आगे कर दिया। इस गोल के लिए सरदार सिंह ने लंबा पास दिया था, जिस पर रमनदीप ने स्लाइड कर बॉल को अफान की ओर धकेला और अफान ने इसे गोल करने में कोई गलती नहीं की।

पाकिस्तान की टीम पर थोड़ा दबाव दिखाई दिया, लेकिन मैच के 26वें मिनट में पाकिस्तान को पेनल्टी कॉर्नर मिला और अलीम बिलाल ने गोल कर स्कोर को 2-1 कर दिया। बिलाल के इस शॉट को गोलकीपर आकाश चिकते इस बार रोक नहीं पाए। पहले हाफ में भारत ने अपने चिर-परिचित प्रतिद्वंद्वी पर 1 गोल की बढ़त बनाए रखी। मैच के तीसरे क्वॉर्टर में खेलने उतरी पाकिस्तान टीम स्कोर को बराबर करने को मौका लगातार ढूंढ रही थी और टीम ने भारत पर दूसरा गोल कर स्कोर को बराबर कर लिया। इस अली शान ने पाकिस्तान के लिए यह गोल किया। इसके बाद भारत की टीम ने अपने प्रतिद्वंद्वी को मैच में कोई मौका नहीं दिया।