जकार्ता। एशियन गेम्स में आज भारत के लिए एथलीट में बेहद बुरी खबर आई. 200 मीटर रेस की चैंपियन भारत की एथलीट हिमा दास सेमीफाइनल में बेहद दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से फाउल (फाल्स स्टार्ट) के चलते डिस्क्वालीफाई होकर बाहर हो गईं. इसकी मायूसी उनके चेहरे पर साफ दिख रही थी. हिमा दास रेस शुरू होने से करीब आधा सेकेंड पहले ही दौड़ पड़ी और अयोग्य करार दी गईं. इस मुकाबले में एथलीट को दूसरा मौका नहीं मिलता. हालांकि, दूसरी ओर दुतीचंद ने इस इवेंट में फाइनल के लिए क्वालिफाई कर लिया. वह अपने पूल में पहले स्थान पर रहीं.

इस मुकाबले में दूसरी बार भी फाउल हुआ जब बहरीन की एथलीट ने हिमा दास जैसी ही गलती की. वह भी सायरन बजने से पहले ही दौड़ पड़ी. इसके कारण उन्हें भी रेस से बाहर होना पड़ा. दोनों के चेहरे पर बेहद मायूसी नजर आ रही थी. साल भर की मेहनत का इस तरह से बेकार चले जाना दोनों के चेहरे पर दिख रहा था. ये रेस वियतनाम की एथलीट ने जीती और फाइनल के लिए क्वालीफाई किया.

वर्ल्ड जूनियर एथलेटिक्स: हिमा दास ने रचा इतिहास, स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनीं, देखें वीडियो…

400 मीटर रेस में मिला था पहला स्थान

हिमा दास का नाम इसी साल जुलाई में चर्चा में आया था. हिमा दास ने फिनलैंड में उस समय इतिहास रच दिया था जब वह महिला 400 मीटर फाइनल में खिताब के साथ आईएएएफ विश्व अंडर 20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनी थीं. खिताब की प्रबल दावेदार 18 साल की हिमा दास ने 51.46 सेकेंड के समय के साथ स्वर्ण पदक जीता. तब मीडिया में हिमा दास को खूब सुर्खियां मिली थीं. हिमा दास 400 मीटर रेस में भारत में चैंपियन भी हैं.